DA Image
3 अप्रैल, 2021|11:19|IST

अगली स्टोरी

राज्य वित्त का नहीं आया पैसा, कर्मचारियों को वेतन के लाले

default image

जनपद के एक नगरनिगम, एक नगरपालिका और 13 नगरपंचायतों में आमदनी का टोटा पड़ गया है। आलम यह है कि पिछले दो माह में कुछ निकायों में कर्मचारियों को वेतन के भी लाले पड़ गए हैं। यही कारण है कि निकायों के कोष की कमी पूरी करने के लिए शासन ने वसूली बढ़ाने के निर्देश दिए हैं। कोरोना संक्रमण के चलते सरकारी और निजी प्रतिष्ठानों और संस्थानों में वित्तीय स्थिति गड़बड़ा गई है। विगत दो ढाई माह कामकाज भी पूरी तरह ठप रहा, लेकिन अनलॉक के बाद फिर से कामकाज शुरु हो गया है। 14 वें वित्त का पैसा सभी निकायों को भेज दिया गया है। इनमें से कुछ निकायों में 14 वें वित्त से होने वाले काम पूर्ण हो चुके हैं, जबकि कुछ निकायों में काम जारी हैं। हालांकि इन निकायों में राज्य वित्त से पैसा नहीं आया है। ऐसे में निकायों के सामने आर्थिक संकट की स्थिति बनना स्वाभाविक है। सूत्रों के मुताबिक कई निकायों में तो कर्मचारियों का दो दो माह का वेतन भी नहीं आया है। इन्हीं स्थिति परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए उप्र शासन ने नगरनिगम, नगरपालिका और नगरपंचायतों में वसूली बढ़ाए जाने का निर्देश दिया है। ताकि कर्मचारियों के वेतन की व्यवस्था हो सके। साथ ही यह भी कहा है कि जिन निकायों में 14 वें वित्त का पैसा विकास कार्यों के पूर्ण होने के बाद अवशेष हो, उस अवशेष पैसे का प्रयोग कर्मचारियों के वेतन वितरण में किया जा सकता है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Money did not come from state finances salaries paid to employees