DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सुदेवी के वीजा के लिए विदेश मंत्रालय ने रिपोर्ट की तलब

सुदेवी के वीजा के लिए विदेश मंत्रालय ने रिपोर्ट की तलब

पद्मश्री से सम्मानित जर्मन गोभक्त महिला फ्रेडरिका एरिक बूनिंग उर्फ सुदेवी दासी के वीजा तिथि के लिए किए गए आवेदन के निरस्त होने का मामला अब विदेश मंत्रालय तक पहुंच गया है। स्वयं विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने इस मामले में रिपोर्ट तलब की है। उन्होंने रविवार को ट्वीट करके इस मामले को संज्ञान में लाने पर मीडिया का आभार भी जताया। इधर, वीजा मामले को लेकर एलआईयू भी सक्रिय हो गई है, जबकि एसडीएम नागेन्द्र सिंह ने भी सुदेवी के यहां रहने के मामले में मांगे जाने पर पॉजीटिव रिपोर्ट भेजने की बात कही है।

बता दें कि पिछले 40 वर्ष से सुदेवी राधाकुंड वास करके गोसेवा कर रही हैं। कोन्हई रोड स्थित राधा सुरभि गोशाला में वे 1800 से अधिक निराश्रित गोवंश का पालन कर रही हैं। उनकी गोभक्ति के चलते भारत सरकार ने इसी वर्ष सुदेवी को पद्मश्री से सम्मानित भी किया है। वीजा पर यहां रह रहीं सुदेवी ने प्रतिवर्ष की तरह इस बार भी अपने वीजा की अवधि बढ़ाने के लिए आवेदन किया था, लेकिन उनका यह ऑनलाइन आवेदन अचानक निरस्त कर दिया गया। तब से सुदेवी की न तो आंखों में नींद है और न ही चेहरे पर मुस्कान। वीजा की अवधि बढ़ाने के आवेदन के निरस्त होने के बाद से वे बेहद व्यथित हैं। यह मामले समाचार-पत्रों में प्रकाशित होने के बाद रविवार को विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने गंभीरता दिखाई। वीजा का आवेदन निरस्त होने के मामले में उन्होंने रिपोर्ट तलब की है। इससे पहले सुदेवी अपने आवेदन निरस्त होने के मामले में तमाम अफसरों, मंत्रियों और विधायक से गुहार लगा चुकी हैं, लेकिन सिवा आश्वासन के उनको कुछ नहीं मिला, जबकि उनके वीजा की अवधि 25 जून को समाप्त हो रही है।

दर-दर भटकने के बाद भी सुदेवी को कोई मददगार नहीं मिला तो उन्होंने पद्ममश्री सम्मान वापस करके जर्मन लौटने के मन बनाना शुरू कर दिया। इसके चलते गोशाला कर्मचारी भी बेहद व्यथित दिखायी दिए। उनका कहना है कि 40 वर्ष से असहाय, बीमार गोवंश की सेवा कर रही हैं। उनका यहां से जाने के बाद गोवंश की सुध कौन लेगा? उधर, सुदेवी को भी ब्रजभूमि और गोवंश से बेहद लगाव है। गौरतलब है कि वर्षों से सुदेवी के वीजा की अवधि बढ़ाने के लिए सकारात्मक रिपोर्ट लगाने वाला एलआईयू विभाग भी अब सक्रिय हो गया है। इससे सुदेवी की उम्मीदें फिर जगी हैं। उनका मानना है कि यदि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने संज्ञान लिया है, तो निश्चित ही इसके सार्थक परिणाम सामने आएंगे।

सुदेवी राधाकुंड में अच्छा काम कर रही हैं। उनकी गोसेवा सराहनीय है। जर्मन की इस महिला भक्त के वीजा के मामले में अभी उनके पास कोई अधिकृत जानकारी नहीं है। लेकिन, यदि इस मामले में उनसे रिपोर्ट मांगी जाती है तो उनके पक्ष में सकारात्मक रिपोर्ट दी जाएगी।

-नागेन्द्र सिंह, एसडीएम

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Ministry of External Affairs calls for Sudi s visa