Increase sensitivity level in writing Author Govind - लेखन में संवेदनशीलता का स्तर बढ़ाएं लेखक : गोविंद DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लेखन में संवेदनशीलता का स्तर बढ़ाएं लेखक : गोविंद

आथर्स गिल्ड आफ इंडिया के द्विदिवसीय राष्ट्रीय अधिवेशन का शनिवार को शुभारंभ गुरुकुल रोड स्थित कृष्ण साधक ट्रस्ट के सभागार में हुआ। इसमें देश भर से आए साहित्यकार एवं लेखकों ने आज के समय की ज्वलंत समस्या कॉपीराइट एक्ट एवं रेप्रोग्राफी राइट्स पर मंथन किया।मुख्य अतिथि नेशनल बुक ट्रस्ट के अध्यक्ष गोविंद प्रसाद शर्मा ने कहा कि पुस्तकें जीवन का अहम हिस्सा हैं और आने वाली पीढ़ी में संस्कार और नैतिक मूल्यों को बचाने का जिम्मा आज भी इन्हीं के कंधों पर है। इस दायित्व को निभाने वाले लेखकों को नैतिकता के साथ ही विषय की प्रासंगिकता और औचित्य पर भी गंभीरता से विचार करना होगा। कहा कि लेखक जनता की धड़कन बनें। संवेदनशीलता का स्तर बढ़ाएं और समाज के लिए कल्याणकारी लेखन में जुटे रहें। मुख्य वक्ता संस्कार भारती के संरक्षक पद्मश्री योगेंद्र ने कहा कि कलम चलाना भी साधना है और इसके माध्यम से लेखक समाज के संघर्ष और कुंठा को शब्दों में ढालकर प्रस्तुत करता है। वर्तमान में लेखन व्यापार बनता जा रहा है। आवश्यकता इस बात की है कि कलमकार अपनी स्वांत: सुखाय वृत्ति को छोड़कर समाज को सुखमय बनाने वाले विषयों पर चेतना और जागरूकता की दिश में लेखन करें। स्वागत भाषण संयोजक डॉ. अमी आधार निडर ने दिया। डा. अहिल्या मिश्र, शोरतर कार्तिकेयन आदि ने भी विचार रखे। अधिवेशन में देशभर के करीब 150 लेखक एवं साहित्यकार प्रतिभाग कर रहे हैं। इस अवसर पर उद्योगपति पवन चतुर्वेदी, डा. दिनेश पाठक, जितेंद्र विमल, डा. ऊषा दुबे, नरेंद्र परिहार, डा. प्रियंका सोनी, डा. किरन पोपकर, डा. धर्मराज, डा. निशेष जार, डा. कल्पना श्रीवास्तव, दीपक दीक्षित, डा. बीएल गौड़, डा. जनकराज जय, राजीव सक्सेना, सुशील सरित, चित्रांश, रजनीश, नीरज शास्त्री, अंकुर कुलश्रेष्ठ आदि उपस्थित थे। संचालन अध्यक्ष प्रो. शिवशंकर अवस्थी ने किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Increase sensitivity level in writing Author Govind