DA Image
6 दिसंबर, 2020|3:23|IST

अगली स्टोरी

दस टन रंग से सराबोर होंगे हुरियारे

default image

‘लाली तेरे लाल की, जित देखूं उत लाल। लाली देखन मैं चली, मैं भी हो गई लाल। जी हां.. ये पंक्तियां बरसाना नन्दगांव की लठामार होली में सटीक बैठती हैं। श्रीधाम में लड्डू होली व लठामार होली पर हुरियारों संग भक्तों को सराबोर करने की लिए एक टन गुलाल के साथ दस टन रंग तैयार किया गया है।

तीन मार्च को लड्डू होली व पांच मार्च को लठामार होली पर देश-विदेश से आने वाले लाखों की संख्या में भक्तों के साथ डेढ़ हजार हुरियारों को रंग और गुलाल से सराबोर करने की तैयारी की जा रही है। यह तैयारी लाड़लीजी मंदिर के भण्डारी भगवान दास के द्वारा की जा रही है। भगवान दास भंडारी ने बताया कि इस बार दो टन अरारोट से बना बढ़िया किस्म का गुलाल पांडे लीला व होली पर उड़ाया जाएगा। वहीं लठामार होली पर दस टन टेसू के फूलों से रंग तैयार किया जा रहा है। उक्त रंग से नन्दगांव से आये हुरियारों के साथ राधारानी के भक्तों को सराबोर किया जाएगा।

कैसे तैयार होता है रंग

लाड़लीजी महल में हुरियारों संग भक्तों को रंग से सराबोर करने के लिए टेसू के फूलों से बनाया हरबल रंग तैयार किया जाता है। फूलों से रंग बनाने के लिए बड़ी-बड़ी कढ़ाई में भट्टियों में सफेदी डालकर तपाया जाता है। उसके बाद पानी मिलाकर कपड़े में छान कर ड्रामों में भर दिया जाता है। अरारोट से बना बढ़िया किस्म का गुलाल व टेसू के फूल हाथरस से भगवान दास भंडारी लाता है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Hurriyare will be filled with ten tons of color