DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बायो मेडिकल वेस्ट के निस्तारण पर मंथन

मुख्यचिकित्सा अधिकारी कार्यालय के सभाकक्ष में आयोजित बैठक में बायो मेडिकल वेस्ट की कार्य योजना एवं अन्य बिन्दुओं पर चर्चा की गई। बैठक में बताया गया कि सभी सरकारी चिकित्सालयों, प्राइवेट हॉस्पिटल, क्लीनिक, पैथोलॉजी आदि चिकित्सा संस्थानों को प्रदूषण विभाग का प्राधिकार पत्र चाहिए होगा। यानि प्राइवेट एवं सरकारी चिकित्सा संस्थानों में बायो मेडिकल वेस्ट का निस्तारण नियमानुसार हो रहा है। इसके बाद भी प्राइवेट सेंटरों का नवीनीकरण संभव होगा। इसके अलावा आदेश के अनुपालन में कलर कोडेट डस्टबिन को समस्त जैव अवशिष्ट उत्पन्न होने वाले स्थानों पर लगवाने के तथा एवं उनसे सम्बन्धित आईईसी मैटेरियल दीवारों पर चस्पा करने के लिए कहा गया। स्टाफ का प्रशिक्षण जरूरी बताया। मुख्यचिकित्सा अधिकारी डाक्टर शेर सिंह द्वारा चिकित्सा इकाईयों, समस्त स्टाफ के टीकाकरण में प्रमुखत: हेपेटाइटिस एवं टिटनस के इंजेक्शन लगवाने हेतु निर्देशित किया गया। साथ ही कमेटी गठन के निर्देश दिए। एसीएमओ डाक्टर राजीव गुप्ता ने भी आवश्यक जानकारी दी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Decline of Bio-Medical West