DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › मथुरा › यमुना में जलवृद्धि के चलते पानी से घिरा ब्रह्मर्षि देवराह बाबा घाट
मथुरा

यमुना में जलवृद्धि के चलते पानी से घिरा ब्रह्मर्षि देवराह बाबा घाट

हिन्दुस्तान टीम,मथुराPublished By: Newswrap
Sun, 01 Aug 2021 07:31 PM
यमुना के जलस्तर में लगातार हो रही वृद्धि का असर धर्मनगरी में दिखने लगा है। यहां के पुराने घाटों पर यमुना की धारा हिलोरे मार रही हैं। वहीं करीब 6...
1 / 2यमुना के जलस्तर में लगातार हो रही वृद्धि का असर धर्मनगरी में दिखने लगा है। यहां के पुराने घाटों पर यमुना की धारा हिलोरे मार रही हैं। वहीं करीब 6...
यमुना के जलस्तर में लगातार हो रही वृद्धि का असर धर्मनगरी में दिखने लगा है। यहां के पुराने घाटों पर यमुना की धारा हिलोरे मार रही हैं। वहीं करीब 6...
2 / 2यमुना के जलस्तर में लगातार हो रही वृद्धि का असर धर्मनगरी में दिखने लगा है। यहां के पुराने घाटों पर यमुना की धारा हिलोरे मार रही हैं। वहीं करीब 6...

यमुना के जलस्तर में लगातार हो रही वृद्धि का असर धर्मनगरी में दिखने लगा है। यहां के पुराने घाटों पर यमुना की धारा हिलोरे मार रही हैं। वहीं करीब 6 करोड़ रुपये की लागत से बना ब्रह्मर्षि देवराह बाबा घाट को यमुना की धारा ने चारों ओर से घेर लिया है। इससे घाट की सुरक्षा पर संकट मंडराता दिख रहा है। वहीं परिक्रमा मार्ग समेत निचले इलाकों में बनी कालोनियों में रह रहे लोगों को बाढ़ का खतरा सताने लगा है।

बता दें कि हथिनीकुंड बैराज से लगातार छोड़े जा रहे पानी के चलते धर्मनगरी में यमुना के जलस्तर में लगातार वृद्धि हो रही है। इसके चलते बराहघाट से अक्रूर तक यमुना किनारे के इलाकों में बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है। चीरघाट से भ्रमर घाट होते हुए केसीघाट जाने वाले परिक्रमा मार्ग में यमुना पानी आने से परिक्रमा मार्ग पूरी तरह से बाधित हो गया है। केसीघाट की 24 सीढ़ियों में से अब सिर्फ 6 सीढ़ी ही दिख रही हैं। शेष सीढ़ियां यमुना के पानी में डूब चुकी हैं। यमुना के जलस्तर में हो रही वृद्धि के बाद यमुना के विहंगम दृश्य को देखने के लिए शाम के समय लोगों की भीड़ घाटों पर जुट रही है। वहीं लोग यमुना मैया की आरती कर भगवान से प्रार्थना कर रहे हैं कि यमुना की ऐसी स्थिति हमेशा बनी रहे। वहीं यमुना के निचले इलाकों में रह रहे लोगों समेत खादर में बनी अवैध कॉलोनियों में ह रहे लोगों को भी बाढ़ की चिंता सताने लगी है। जैसे-जैसे जलस्तर में वृद्धि हो रही है वैसे-वैसे लोगों की रात की नींद भी उड़ रही है। लोग सुरक्षित स्थानों की ओर जाने की तैयारी में जुट गए हैं। वहीं इलाका पुलिस द्वारा लोगों को यमुना में स्नान करने, नाव से यमुना पार करने से रोका जा रहा है।

करोड़ों की लागत से बना देवराह बाबा घाट की सुरक्षा पर संकट

वृंदावन। फरवरी माह में आयोजित कुंभ पूर्व वैष्णव बैठक (कुंभ मेला) से पहले प्रदेश सरकार के सिंचाई विभाग द्वारा उप्र ब्रज तीर्थ विकास परिषद के प्रस्ताव पर ब्रह्मर्षि देवराह बाबा के समाधि स्थल के सामने करीब 6 करोड़ रुपये की लागत से ब्रह्मर्षि देवराह बाबा घाट का निर्माण कराया था।

जहां रविवार को यमुना के जलस्तर में हो रही वृद्धि का असर साफ तौर पर दिख रहा है। कुंभ मेला क्षेत्र में यमुना जल का फैलाव होने के कारण यमुना ने घाट को चारों ओर से घेर लिया है। घाट की ओर जाने वाले मार्ग अवरुद्ध हो गए हैं। घाट के चारों ओर यमुना का पानी आने से घाट की सुरक्षा को लेकर लोगों में चिंता सताने लगी है। आशंका जताई जा रही है कि यदि यमुना के जलस्तर में ऐसे ही वृद्धि जारी रही तो करोड़ों की लागत से बने घाट को भारी क्षति पहुंच सकती है। यमुना भक्त आनंद बाबा, मोहन लाल, राजकुमार शर्मा, छैलबिहारी अग्रवाल एवं उमेश दुबे का कहना है कि सिंचाई विभाग ने घाट निर्माण से पूर्व और बाद में घाट की सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम नहीं किए गए। इसके कारण रविवार को यमुना के पानी ने घाट को चारों ओर से घेर लिया है। इससे उन्हें घाट निर्माण पर खर्च किए गए करोड़ों रुपये पानी में बह जाने की आशंका सता रही है।

संबंधित खबरें