DA Image
31 मार्च, 2020|7:02|IST

अगली स्टोरी

बैंककर्मियों की हड़ताल, 500 करोड़ का लेन-देन अटका

बैंककर्मियों की हड़ताल, 500 करोड़ का लेन-देन अटका

1 / 2यूनाईटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस के तत्वावधान में अपनी लंबित मांगों को लेकर शुक्रवार को सभी बैंकों के अधिकारी- कर्मचारियों ने हड़ताल शुरु कर दी है। शुक्रवार को सौंख रोड सिंडीकेट बैंक के रीजनल कार्यालय पर...

बैंककर्मियों की हड़ताल, 500 करोड़ का लेन-देन अटका

2 / 2यूनाईटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस के तत्वावधान में अपनी लंबित मांगों को लेकर शुक्रवार को सभी बैंकों के अधिकारी- कर्मचारियों ने हड़ताल शुरु कर दी है। शुक्रवार को सौंख रोड सिंडीकेट बैंक के रीजनल कार्यालय पर...

PreviousNext

यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस के तत्वावधान में अपनी लंबित मांगों को लेकर शुक्रवार को सभी बैंकों के अधिकारी-कर्मचारियों ने हड़ताल शुरू कर दी है। शुक्रवार को सौंख रोड सिंडीकेट बैंक के रीजनल कार्यालय पर प्रदर्शन कर नारेबाजी की। इस दौरान बैंकों में ताले लटके रहे। हड़ताल के कारण बैंकों में 500 करोड़ से अधिक का लेनदेन प्रभावित हुआ है।

धरना-प्रदर्शन को संबोधित करते हुए केके पांडेय सचिव यूपीबीईयू ने कहा कि हम सरकार से मांग करते हैं कि एनपीए की वसूली में शीघ्रता की जाए नाकि बैंको का मर्जर किया जाए। ऑल इंडिया ओरियंटल बैंक एम्पलाइज फेडरेशन के महासचिव एवं एआईबीईए के सेंट्रल कमेटी मेंबर, यूपीबीईयू के प्रांतीय अध्यक्ष केएच पांडेय ने कहा कि सरकार जानबूझकर वेतन समझौते को लटका रही है जो कि नवंबर 2017 से देय है। यदि सरकार और आईबीए हमारी मांगें नहीं मानती है तो मार्च में तीन दिवसीय व एक अप्रैल से अनिश्चितकालीन हड़ताल करने पर मजबूर होंगे।

यूपीबीईयू के जिला अध्यक्ष जगमोहन शर्मा, पूर्व जिला सचिव बामनजी चतुर्वेदी, स्टेट बैंक से ऑफिसर संगठन के क्षेत्रीय सचिव अनिल कुमार जैन,स्टाफ एसो. के क्षेत्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह, भूरी सिंह, मुरारी लाल शर्मा, आलोक शर्मा, डी के अग्रवाल, जीतू दिवाकर, रोहित दास, डीआर शर्मा, हर्ष भाटिया, तालेवर चतुर्वेदी, गुलशन चावला, जितेन्द्र शर्मा ओबीसी से नागेन्द्र चतुर्वेदी, बलराम मीना, गोविन्द मीना, , गोविन्द प्रसाद, दीपक जौहरी, बनी सिंह रावत, त्रिलोकी नाथ पाण्डेय, सेंट्रल बैंक से रामगोपाल, अतुल जौहरी, यूको बैंक से चौधरी बिजेन्द्र सिंह, के के शर्मा, बैंक ऑफ बड़ौदा से महेश शर्मा, प्रदीप यादव पंजाब एंड सिंध बैंक से भागवत, यूनियन बैंक से आरके सिंह बैंक आफ इंडिया से धन सिंह, इलाहाबाद बैंक से दामोदर सिंह आदि ने मांगों को पूरी होने तक आंदोलन जारी रखने संबधी विचार रखे। सभा का संचालन यूएफबीयू के जिला संयोजक के के पांडेय ने किया। इधर हड़ताल के कारण बैंकों में ताले लटके रहे। खाता धारक बैंरग लौटे। 500 करोड़ से अधिक का लेनदेन अटका बताया गया।

यह हैं मांगें

मथुरा। प्रदर्शन में शीघ्र द्विपक्षीय वेतन समझौता लागू करने, विशेष पे को मूल वेतन में जोड़ने, नई पेंशन स्कीम को बंद कर पुरानी पेंशन स्कीम को लागू करने, पांच दिवसीय बैंक शुरू करने, पारिवारिक पेंशन सुधार , अधिकारियों के लिए निश्चित काम के घंटे, बैंक मर्जर को वापस लेने, बैंकों में पर्याप्त भर्ती करने, आउटसोर्सिग बंद करने के लिए जोरदार नारेबाजी कर आईबीए व सरकार को कोसकर अपने विरोध का इजहार किया। इसी क्रम में एक फरवरी को भी सभी बैंक अधिकारी व कर्मचारी हड़ताल पर रहेंगे। सिंडीकेट बैंक की मुख्य शाखा होलीगेट , मथुरा पर सुबह 10:30 बजे प्रदर्शन करेंगे।

ये रहे मौजूद

प्रदर्शन यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस,

एआईबीईए, एआईबीओए, एनसीबीई, एआईबीओसी, बीईएफआई, आईएनबीईएफ, आईएनबीओसी, एनओबीडब्लू, एनओबीओ आदि बैंक यूनियनों के पदाधिकारी एवं सदस्य मौजूद रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Bank workers strike for demands transaction worth 500 crores stuck