DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

धनगरों के जाति प्रमाण पत्रों की लड़ाई सफलता के द्वार

अहिल्याबाई होल्कर की जयंती श्रद्धा संग मनाई गई। इस मौके पर वक्ताओं ने कहा कि मातेश्वरी अहिल्यावाई हिन्दू धर्म की रक्षक और समाज सेविका थीं। डॉ. यशपाल बघेल ने कहा कि महासभा के नेतृत्व में लड़ी गई धनगरों को अनुसूचित जाति प्रमाण पत्र की लड़ाई सफलता के द्वार पर है। सभा शहर में शिक्षित, संस्कारित व कुरीतियों से मुक्त धनगर अभियान चलाएगी। सतीश बघेल ने कहा कि अधिकारी प्रमाण पत्र अपने चहेतों के बना रहे हैं, जबकि उन्हें सभी धनगरों के बनाने चाहिए। राजकुमार धनगर ने बताया कि मातेश्वरी ने 12,673 मंदिरों, कुंओं, बावड़ियों, धर्मशालाओं, मठों का निर्माण कराया। जिन धर्मस्थलों को बाहरी आक्रांताओं ने ध्वस्त किया था, उनका जीर्णोद्धार भी कराया। वे कर्तव्य परायण थीं, लोगों को उनके जीवन से प्रेरणा लेनी चाहिए। धनगर समाज के लोगों ने अहिल्यावाई पार्क में जन्मोत्सव आयोजित किया। कहा धनगर अधिकार हमारा है, लेकिन वह घर बैठे नहीं मिलेगा, आगे बढ़ें। वक्ताओं ने 5 जून को अहिल्यावाई पार्क में होने वाले कार्यक्रम में समाज के लोग बड़ी संख्या में भाग लें। इस अवसर पर मुकेश धनगर, आनंद धनगर, जेपी धनगर, तोताराम धनगर, कालीचरण, हरिओम, इं. रूपेश धनगर, स्वतंत्र, दर्याब सिंह, तुलसीराम, सत्यवीर सिंह, भूपेंद्र, साहब सिंह, कै. हाकिम सिंह, चतुर सिंह, मुरारी लाल बघेल,सोमपाल, अशोक कुमार, बलवीर, रणवीर, जितेंद्र आदि अनेक लोगों ने मातेश्वरी का गुणगान, नमन-वंदन किया और उनकी प्रतिमा पर पुष्प चढ़ाए। संचालन जिलाध्यक्ष हरिओम धनगर ने किया। धन्यवाद सभासद संगीता खन्ना ने दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Ahilyabai Holkar birth anniversary was celebrated in mathura