Achievement to Goat Products Technology Laboratory - बकरी उत्पाद प्रौद्योगिकी प्रयोगशाला को उपलब्धि DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बकरी उत्पाद प्रौद्योगिकी प्रयोगशाला को उपलब्धि

केंद्रीय बकरी अनुसंधान संस्थान (मखदूम) के बकरी उत्पाद प्रौद्योगिकी प्रयोगशाला को हाल ही में भारत सरकार की जैविक परीक्षण मानक के लिए नेशनल एक्रीडिटेशन बोर्ड फॉर टेस्टिंग एंड कैलिब्रेशन लैबोरेट्रीज, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय भारत सरकार (एनएबीएल) से प्रमाणित किया गया है। इस प्रयोगशाला में मांस, दूध एवं उनके उत्पादों में कीटाणु और विषाक्त पदार्थों का पता लगाकर गुणवत्ता परीक्षण किया जायेगा। एनएबीएल प्रमाण-पत्र मिलने से यह संस्थान अब भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान के चुनिन्दा संस्थानों में शामिल हो गया है।संस्थान में मांस, दूध एवं उनसे बने उत्पादों में रोगाणुओं एवं उनके विषाक्त पदार्थों की जांचकर प्रमाणित किया जा सकता है। इससे पूर्व खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बकरी उत्पाद प्रौद्योगिकी प्रयोगशाला को राष्ट्रीय रेफरल प्रयोगशाला का दर्जा भी दिया जा चुका है। वर्ष 1979 में स्थापित केंद्रीय बकरी अनुसन्धान संस्थान ने बकरी उत्पादन एवं उनमें होने वाली बीमारियों की पहचान एवं रोकथाम, नस्ल सुधार और उच्च गुणवत्ता की बकरियों के प्रजनन में अनगिनत कार्य किये हैं। आज जीवन में खाद्य पदार्थों में रोगाणुओं और उनके विषाक्त पदार्थों की उपस्थिति एक प्रमुख जनस्वास्थ्य चिंता का कारण बन चुकी है। इसका जल्द से जल्द पता लगाने से उत्पाद की गुणवत्ता बनाये रखने एवं खाद्य पदार्थ जनित बीमारियों को रोकने में मदद मिलती है। इसके अतिरिक्त एक्रिडिटेटेड प्रयोगशाला द्वारा गुणवत्ता परीक्षण से निर्यात बढ़ता है जो कि लाभप्रद है। इस प्रयोगशाला में अत्याधुनिक, पूर्णतः स्वचालित उपकरण हैं, जो खाद्य पदार्थो में रोगजनक कीटाणुओं का पता लगाने में उपयोग में आते है। प्रयोगशाला प्रभारी डा. वी राजकुमार का कहना है कि प्रयोगशाला का मुख्य उद्देश्य ऐसे खाद्य उद्योगों को गुणवत्ता प्रमाण-पत्र देना है, जो उत्पाद को घरेलू बाजार एवं विदेशों में बेचते हैं। प्रयोगशाला खाद्य पदार्थो में उपलब्ध अमीनो अम्ल और वसा अम्ल का भी मूल्यांकन करती है। प्रयोगशाला के एनएबीएल प्रमाण-पत्र प्राप्त करने के लिए प्रयोगशाला के सहकर्मी डॉ. अरुण वर्मा, डॉ. सुमन कुमार, डॉ. गुरुराज, सूरजपाल, राजेंद्र सिंह, योगेंद्र कुमार, तनुजा कुशवाह एवं डॉ. जय सिंह के प्रयत्नों की प्रशंसा की गयी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Achievement to Goat Products Technology Laboratory