DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  मथुरा  ›  रसोपासना वाणी के मर्मज्ञ संत थे आचार्य राधाप्रसाद देव

मथुरारसोपासना वाणी के मर्मज्ञ संत थे आचार्य राधाप्रसाद देव

हिन्दुस्तान टीम,मथुराPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 04:30 AM
रसोपासना वाणी के मर्मज्ञ संत थे आचार्य राधाप्रसाद देव

वृंदावन। गोशाला नगर स्थित ललित कुंज में श्रीहरिदासीय रसोपासना पीठ एवं राधाप्रसाद सेवा ट्रस्ट के संयुक्त तत्वावधान में रसिक शिरोमणि स्वामी हरिदास महाराज की 14वीं पीढ़ी के आचार्य राधाप्रसाद देव महाराज का 182वां प्राकट्य महोत्सव कोरोना महामारी के नियमों का पालन करते हुए सादगी के साथ मनाया गया।

अध्यक्षता करते हुए महामंडलेश्वर स्वामी राधाप्रसाद देव महाराज ने कहा कि आचार्यश्री स्वामी हरिदास महाराज की रसोपासना वाणी एवं महान समाज गायक एवं मर्मज्ञ संत थे। उनके द्वारा रचित कई रस वाणी हैं। जिनमें रसोपासना तिलक एक वृहद रस वाणी है। आज भी सभी संप्रदाय के रसिक संत उनके द्वारा रचित वाणियों का अध्ययन करके रस रीति मार्ग पर चलते हैं। महंत मोहिनीबिहारी शरण ने कहा कि स्वामी राधाप्रसाद देव रज, लता, यमुना, निकुंज उपासक थे। इससे पूर्व सुबह ठा. राधा ललितबिहारी के मंगलाचरण के साथ रसिक संतों के द्वारा जागरण बधाई एवं समाज गायन तथा गरीब, असहाय, विधवा एवं नेत्रहीनों की सेवा की गई।

संबंधित खबरें