DA Image
11 अगस्त, 2020|6:24|IST

अगली स्टोरी

बिजली विभाग के खिलाफ प्रसपा नेताओं ने खोला मोर्चा

बिजली विभाग के खिलाफ प्रसपा नेताओं ने खोला मोर्चा

गुरुवार को बिजली की समस्याओं को लेकर प्रसपा पदाधिकारियों ने तहसील जाकर एसडीएम को ज्ञापन दिया। सात सूत्रीय मांगों का ज्ञापन देकर बिजली अधिकारियों, कर्मचारियों पर मनमानी करने का आरोप लगाया। कहा कि अधिकारी मनमर्जी से एफआईआर करा रहे हैं। लोगों से वसूली की जा रही है। एसडीएम ने मामले में जांच कराने और उच्चाधिकारियों को अवगत कराने का भरोसा दिलाया है। उधर बिजली विभाग के एसडीओ ने लगाए गए आरोपों को बेवुनियाद बताया।

गुरुवार को एसडीएम को ज्ञापन देने पहुंचे प्रसपा नेताओं ने कहा कि ग्राम बनकटिया निवासी सौरभ पुत्र रामप्रकाश पर एफआईआर कराई गई। जेई और एसडीओ पर सौरभ से 9 हजार रुपये लेने का आरोप लगाया गया। आरोप है कि सुनील पुत्र संतोष निवासी नगरिया से बिजली कनेक्शन के नाम पर 25 हजार रुपये मांगे गए। न देने पर एफआईआर करा दी गई। रामकुमार निवासी सदर बाजार के कनेक्शन का परमानेंट डिशकनेक्शन हो चुका है लेकिन रुपया लेकर बिजली दी जा रही है। फर्जी एफआईआर और अघोषित कटौती का प्रसपा नेताओं ने विरोध किया और कार्रवाई की मांग की। इस मौके पर पूर्व विधायक अनिल यादव, पूर्व डीसीबी चेयरमैन डा. रामकुमार यादव, शैलेंद्र यादव, जीवन यादव, उवैस सिद्दीकी, रामशंकर आदि मौजूद रहे।

प्रसपा नेता आरोप न लगाए, बिल जमा करवाएं

करहल। एसडीओ रजत शुक्ला का कहना है कि सौरभ के रुपये खुद पूर्व विधायक अनिल यादव ने जमा कराए थे। नाम, पता एक होने के चलते गलती हुई। सुनील का संयोजन अवर अभियंता ने निरस्त किया। बिना कनेक्शन बिजली चोरी की जा रही थी। बकाएदारों और चोरी से बिजली का प्रयोग कर रहे लोगों के कनेक्शन काटे जा रहे हैं। करहल में 75 प्रतिशत लाइन लॉस है। प्रसपा नेता आरोप लगाने की बजाय बिजली चोरी रुकवाए। लाइन लॉस 15 प्रतिशत से कम होगा तो 24 घंटे बिजली मिलेगी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Praspa leaders open front against electricity department