DA Image
27 नवंबर, 2020|8:51|IST

अगली स्टोरी

लग्जरी वाहन चोर गिरोह से पुलिस की मुठभेड़

लग्जरी वाहन चोर गिरोह से पुलिस की मुठभेड़

1 / 2गुरुवार की रात वाहन चेकिंग के दौरान घिरोर पुलिस की वाहन चोरों से मुठभेड़ हो गई। मुठभेड़ के दौरान दो शातिर चोर पकड़े गए। पकड़े गए चोरों से होंडा सिटी कार सहित तीन चोरी के वाहन पकड़े गए। आरोपियों से दो...

लग्जरी वाहन चोर गिरोह से पुलिस की मुठभेड़

2 / 2गुरुवार की रात वाहन चेकिंग के दौरान घिरोर पुलिस की वाहन चोरों से मुठभेड़ हो गई। मुठभेड़ के दौरान दो शातिर चोर पकड़े गए। पकड़े गए चोरों से होंडा सिटी कार सहित तीन चोरी के वाहन पकड़े गए। आरोपियों से दो...

PreviousNext

गुरुवार की रात वाहन चेकिंग के दौरान घिरोर पुलिस की वाहन चोरों से मुठभेड़ हो गई। मुठभेड़ के दौरान दो शातिर चोर पकड़े गए। पकड़े गए चोरों से होंडा सिटी कार सहित तीन चोरी के वाहन पकड़े गए। आरोपियों से दो तमंचे और कारतूस भी बरामद किए गए हैं। पकड़ा गया एक आरोपी बेहद शातिर है। उसके खिलाफ घिरोर थाने में ही चोरी, जानलेवा हमला, आर्म्स एक्ट, गुंडा एक्ट के 13 मुकदमे दर्ज हैं। आरोपियों ने खुलासा किया कि वह लग्जरी वाहनों को चुराकर नंबर प्लेट और इंजन नंबर आसानी से बदल देते हैं। मुकदमा दर्ज कर दोनों को जेल भेजा गया है।

गुरुवार की रात थाना प्रभारी पहलवान सिंह पुलिस टीम के साथ जसराना मार्ग से गुंडेला जाने वाले मार्ग पर गश्त कर रहे थे। तभी इसी मार्ग पर प्रतीक्षालय के निकट दो कारों के साथ होंडा सिटी कार सवार बदमाश होने की खबर पुलिस को मुखबिर द्वारा दी गई। पुलिस ने सूचना पर मौके पर जाकर घेराबंदी की तो पुलिस को देखकर बदमाशों ने फायरिंग कर दी। पुलिस ने जवाबी फायरिंग कर दो बदमाशों को पकड़ लिया। दोनों ने अपने नाम इमरान पुत्र अफसर निवासी नई बस्ती कस्बा घिरोर तथा सोहेल पुत्र इजहार निवासी मोहल्ला मनिहारन कस्बा करहल बताए।

बड़ी संख्या में मिली हैं गाड़ियों की नंबर प्लेट

घिरोर। पकड़ा गया इमरान शातिर वाहन चोर है। उसके खिलाफ घिरोर थाने में 13 मुकदमे दर्ज हैं। सोहेल का भी आपराधिक इतिहास है। इनके कब्जे से एक होंडा सिटी और दो ईको कार के अलावा 25 वाहनों के नंबर प्लेट, दो तमंचे, सात लिखी हुई प्लेट, मास्टर चाबियों के गुच्छे, चैस प्लेट, गाड़ियों की आरसी, चैस मशीन घिसने की मशीन, सिलेंडर, हथौड़ा आदि बरामद किए गए।

पांच मिनट में ही बदल देता है गाड़ी का नंबर

घिरोर। थाना प्रभारी पहलवान सिंह ने बताया कि आरोपी इमरान इंटरनेट के जरिए किसी भी गाड़ी के रजिस्ट्रेशन की कॉपी निकाल लेता है। उसी नंबर की प्लेट बनाकर चुराई हुई गाड़ी पर लगा देता है। चेकिंग के दौरान जब पुलिस सर्च करती है तो नेट पर वही वाहन मिलता है। आरसी भी मांगने पर दिखा देते हैं। इमरान किसी भी गाड़ी का चैसिस नंबर मिटाकर पांच मिनट में नया नंबर बना देता है। कंप्यूटर से प्रिंट निकालकर नैगेटिव तैयार करता है और चैसिस पर रखकर टेप से चिपकाकर तेजाब डालकर नया नंबर डाल देता है। चुराई हुई गाड़ियों को ये 50 से 60 हजार रुपये में बेच देते हैं। आरोपियों ने खुलासा किया कि चोरी की गाड़ियां बरामद होने से उन्हें जेल जाना पड़ रहा था इसलिए उन्होंने गाड़ियां चुराकर पार्ट्स कबाड़े में बेचने का धंधा शुरू कर दिया था।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Police encounter a luxury vehicle thief gang