DA Image
Monday, December 6, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश मैनपुरीदेवोत्थान एकादशी पर 500 से अधिक बजी शहनाईयां

देवोत्थान एकादशी पर 500 से अधिक बजी शहनाईयां

हिन्दुस्तान टीम,मैनपुरीNewswrap
Sun, 14 Nov 2021 11:15 PM
देवोत्थान एकादशी पर 500 से अधिक बजी शहनाईयां

रविवार को जिले में देवोत्थान एकादशी धूमधाम से मनाई गई। जिलेभर में 500 से अधिक शादियां हुई। हर सड़क पर बारात निकलती दिखी। बाराती सड़कों पर झूमते नजर आए। देव एकादशी पर लंबे समय से बंद शुभ कार्य शुरू हो गए। बाजारों में भी भारी भीड़ उमड़ी। जिसके चलते जगह-जगह जाम के हालात बने रहे। घरों, मंदिरों में देव के लौटने का स्वागत किया गया। एकादशी मनाने के लिए महिलाओं ने गन्ना, सिंघाड़ा आदि से भगवान विष्णु और लक्ष्मी के अलावा तुलसी और शालिग्राम का पूजन किया।

रविवार को देवोत्थान एकादशी के मौके पर कस्बा व ग्रामीण क्षेत्रों में भी दूल्हे और बाराती शादी रचाने के लिए बैंड-बाजों के साथ निकले। नगर के सभी मैरिज होम शादियों से गुलजार दिखे। देर रात तक शादियां होती रहीं। शादी में तैयार होने के लिए महिलाओं की भीड़ ब्यूटी पार्लर के अंदर और बाहर देर रात तक बनी रही। दुल्हन को सजाने के लिए पार्लर संचालकों ने भी रेट से अधिक रुपए वसूले। वहीं होटलों की बुकिंग भी फुल रही। मैरिज होम में दावतों का दौर देर रात तक चलता रहा। नगर में विभिन्न स्थानों पर देव एकादशी की पूजा करने के लिए महिलाओं की भीड़ दिखी। शहर में गन्ना, सिंघाड़ा तथा अन्य वस्तुएं खरीदने के लिए भी लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी।

विधिविधान से अर्चना कर शयन योग से जगाए गए देव

कुरावली। रविवार को कार्तिक शुक्ल एकादशी पर नगर व क्षेत्र में देवोत्थान एकादशी धूमधाम के साथ मनाया गया। पूजन के बाद भगवान श्रीहरि चार माह के शयन योग निद्रा से उठ गए इसके साथ ही चातुर्मास व्रत का भी समापन हो गया। दिन भर श्रद्धालुओं ने वृत रखकर भगवान को पूरे विधि-विधान से जगाया। भगवान को जगाने के लिए श्रद्धालुओं ने आंगन में ईखों का घर बनाया तथा चार कोने पर ईख और बीच में एक लकड़ी का पीढ़ा रखा। शाम को शालिग्राम भगवान को रखकर उनकी पूजा की गई। वेद मंत्रोच्चार के साथ भगवान को भक्तों ने जगाया।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें