DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अवा नदी के गायब होने पर शासन गंभीर, बनेगी टीम

अवा गंगा नदी को पुनर्जीवित करने के लिए सरकारी महकमा सक्रिय हो गया है। शासन से रिपोर्ट मांगे जाने के बाद बुधवार को मैनपुरी आए सचिव समाज कल्याण चंद्रपाल सिंह ने डीएम के साथ नदी को लेकर बैठक की। डीएम ने नदी के गायब होने से जुड़ी हिन्दुस्तान की मुहिम की जानकारी देकर नक्शों के मिलान के लिए अधिशासी अभियंता नहर और एसडीएम से कहा है। तीन सदस्यीय टीम बनाकर नदी का स्थलीय निरीक्षण कराया जाएगा। नदी को वापस लाने के लिए शासन भी गंभीर हो गया है।

बुधवार को सचिव समाज कल्याण चंद्रपाल सिंह ने अवा नदी के गायब होने और उस पर अवैध कब्जा किए जाने के मामले को गंभीर माना। डीएम प्रदीप कुमार ने उन्हें बताया कि करहल और बरनाहल ब्लॉक में पानी का संकट पहले से है। चकबंदी के दौरान नदी की जमीन पर अवैध कब्जा होने की बात प्राथमिक रिपोर्ट में सामने आयी है। अधिकारियों की टीम बनाकर मौके पर भेजी जाएगी। नदी को पुनर्जीवित करने के लिए पूरी कोशिश होगी। सचिव समाज कल्याण ने डीएम से कहा कि मामला गंभीर है। कब्जा करने वालों की सूची बनाएं। उन पर कार्रवाई की जाए। शासन स्तर से नदी को पुनर्जीवित करने के लिए जो भी प्रयास करने होंगे। उनके स्तर से किए जाएंगे। नदी को हर हाल में वापस लाना हैं। सचिव ने हिन्दुस्तान की पहल की सराहना की और कहा कि मैनपुरी में जितने भी तालाब हैं, उन्हें भी कब्जा मुक्त कराने की रिपोर्ट मांगी जा रही है।

नहर विभाग के नए नक्शों में नदी गायब

जनपद में आव गंगा के नाम से मशहूर अवा नदी मैनपुरी के नक्शे में तो है, लेकिन नहर विभाग द्वारा तैयार कराए गए नक्शों में नदी का पता नहीं चल पा रहा। चूंकि ये नक्शे पिछले तीन साल पहले तैयार कराए गए थे। उस समय तक नदी खत्म हो चुकी थी और पूरी तरह नदी की जमीन पर खेती हो गई थी। इसलिए सर्वे के दौरान इस नदी का अस्तित्व मिट गया। सर्वे ऑफ इंडिया के पुराने नक्शों में अवा नदी का जिक्र है। सेंगर नदी से जुड़े बूरामई गांव से अवा नदी के निकलने की पुष्टि भी सर्वे ऑफ इंडिया के अधिकारी कर चुके हैं। अब नक्शों की तलाश की जा रही है। अधिशासी अभियंता नहर गोपाल यादव ने बुधवार को भी दिल्ली कार्यालय से बात कर नदी का नक्शा उपलब्ध कराने का अनुरोध किया।

अवा नदी को पुनर्जीवित करने के लिए शासन गंभीर है। डीएम से नदी को वापस लाने के लिए वार्ता की गई है। नदी की रिपोर्ट जल्द उपलब्ध होगी। इसके बाद नदी को जीवित कराया जाएगा। कब्जा करने वालों पर कार्रवाई होगी।

चंद्रपाल सिंह सचिव समाज कल्याण

नदी के पुर्नजीवन के लिए नक्शों का मिलान कराने के लिए राजस्व विभाग और नहर विभाग को निर्देश दिए गए हैं कि अधिकारियों की टीम बनाकर मौके पर भेजी जाएगी। नदी को कब्जा मुक्त कराना प्रशासन की पहली प्राथमिकता है।

प्रदीप कुमार डीएम, मैनपुरी

मैनपुरी से अवा नदी का गायब होना हैरान करने वाला है। तालाब पर कब्जा तो सुना था, लेकिन नदी पर कब्जा कर लिया गया। मैनपुरी प्रशासन हर संभव उपाय कर नदी को वापस लाने की कोशिश करे। ये बेहद जरूरी है।

रामनरेश अग्निहोत्री विधायक, भोगांव

न गंगा साफ हुई न यमुना साफ हुई। मैनपुरी की ईसन नदी की हालत भी खराब है। सरकार केवल वादे कर रही है। अवा नदी पर कब्जा गंभीर विषय है। ईसन नदी की सफाई कराई जाए और अवा नदी को भी पुनर्जीवित कराया जाए।

राजकुमार यादव विधायक सदर

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Governance will become serious, due to disappearance of Ava river