DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गैंगरेप के वीडियो ने उड़ाए पुलिस के होश, महाराष्ट्र का निकला

सोशल मीडिया पर वायरल हुए गैंगरेप के एक वीडियो को लेकर बुधवार को पीड़ित परिवार के लोग एसपी कार्यालय पहुंचे। परिवार की महिलाओं ने हंगामा किया और मामले में कार्रवाई न किए जाने का पुलिस पर आरोप लगाया। एसपी के निर्देश पर तत्काल वीडियो की जांच कराई गई, तो वीडियो फर्जी निकला। वीडियो महाराष्ट्र का था। जिसके सारे आरोपी बरेली जेल में बंद हैं। यह जानकारी मिलने के बाद पीड़ित परिवार घर लौट गया।

बुधवार को घिरोर थाना क्षेत्र के एक गांव का पीड़ित परिवार एएसपी ओमप्रकाश सिंह के पास पहुंचा और वायरल हुए वीडियो की जानकारी उन्हें दी। एसपी को बताया गया कि उनके परिवार की लड़की 6 माह से गायब है। घिरोर पुलिस से शिकायत भी की गई है, लेकिन पुलिस ने आज तक इस लड़की को बरामद नहीं किया है। एएसपी ने मामले को गंभीर माना और एसपी अजय शंकर राय को घटनाक्रम से अवगत करा दिया। एसपी के निर्देश पर तत्काल सर्विलांस सेल प्रभारी जोगेंद्र सिंह और पुलिस की आईटी टीम को बुलाया गया। टीम ने वायरल वीडियो की जांच शुरू कर दी। एक घंटे में ही इस वीडियो के फर्जी होने का खुलासा हुआ। हालांकि वीडियो महाराष्ट्र का निकला। ये वीडियो घिरोर क्षेत्र से गायब लड़की का नहीं था।

एएसपी ने बताया कि पीड़िता गायब है। परिजनों ने उसकी गलत पहचान कर ली। गलतफहमी के चलते वे वीडियो से जुड़ी लड़की को अपनी लड़की मान बैठे और शिकायत करने आ गए। जो वीडियो सामने आया है, वो महाराष्ट्र से जुड़ा है और उसके सारे आरोपी बरेली जेल में बंद हैं। एएसपी ने ये भी बताया कि घिरोर पुलिस को 6 माह से गायब लड़की को बरामद करने के निर्देश दे दिए गए हैं।

वीडियो लेकर बालिका के परिजन एएसपी के पास पहुंचे थे, लेकिन ये वीडियो मैनपुरी की लड़की का नहीं है। इसकी पुष्टि हो गई है। गायब लड़की को जल्द बरामद किया जाएगा।

अजय शंकर राय एसपी, मैनपुरी

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Gangrape's video shoots the senses of police, Maharashtra