DA Image
30 अक्तूबर, 2020|1:21|IST

अगली स्टोरी

खांसी, बुखार से पीड़ित कर्मचारी नहीं बुलाए जाएंगे ऑफिस

default image

मंगलवार को सीएमओ कार्यालय में कोरोना से बचाव के लिए हेल्प डेस्क का शुभारंभ कर दिया गया। सीएमओ डा. एके पांडेय के साथ डीएम महेंद्र बहादुर सिंह ने हेल्प डेस्क का शुभारंभ किया। हेल्प डेस्क पर सेनेटाइजर, थर्मल स्क्रैनर, पल्स ऑक्सीमीटर हर समय उपलब्ध रहेगा। जो लोग आएंगे उनकी इन्हीं से जांच होगी। हेल्प डेस्क पर तैनात किए जाने वाले कर्मचारियों को प्रशिक्षण दिया गया है। अन्य कर्मचारियों को भी इसके लिए प्रशिक्षित किया जाएगा। जिले के अन्य सरकारी विभागों में भी हेल्प डेस्क की शुरुआत करा दी गई।

मंगलवार को सीएमओ कार्यालय में हेल्प डेस्क की शुरुआत करते हुए डीएम ने कहा कि प्रयोग के बाद पल्स ऑक्सीमीटर को हर बार हाइड्रोजन पैरॉक्साइड से विसंक्रमित किया जाएगा। सभी अधिकारी, कर्मचारी हेल्प डेस्क के माध्यम से आरोग्य सेतु एप डाउनलोड करें और लोगों को इसके लिए प्रेरित करें। डीएम ने निर्देश दिए कि कार्यालय परिसर में तंबाकू उत्पादों का प्रयोग कोई भी नहीं करेगा। उन्होंने कहा कि हेल्प डेस्क पर रोस्टर के अनुसार कर्मचारी की 14 दिन के लिए तैनाती की जाए। अवधि खत्म होने पर दूसरा कर्मचारी यहां तैनात होगा। कर्मचारी को कोरोना का सामान्य ज्ञान बता दिया जाए।

लक्षण होने पर कर्मचारी नहीं आएंगे ऑफिस

मैनपुरी। डीएम महेंद्र बहादुर सिंह ने जानकारी दी कि सभी कार्यालयों, तहसील, ब्लॉक और अस्पतालों में हेल्प डेस्क स्थापित कराई जा चुकी हैं। कार्यालय के प्रभारी की जिम्मेदारी होगी कि वह कार्यालय में आने वाले कर्मचारियों में कोरोना के लक्षण मिले तो उसे कार्यालय न बुलाया जाए। हेल्प डेस्क पर जो पीड़ित लोग चिह्नित होंगे उनकी जानकारी तत्काल सीएमओ के कंट्रोल रूम नंबर पर दी जाएगी। इस मौके पर एसडीएम सदर रजनीकांत, जिला मलेरिया अधिकारी डा. एसएन सिंह, जिला क्षय रोग अधिकारी डा. सीएम यादव, एसीएमओ डा. जीपी शुक्ला, डा. देवेश राजपूत, डा. राजीव राय, रवींद्र सिंह गौर आदि मौजूद रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Employees suffering from cough fever will not be called to office