DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जिला अस्पताल में डॉक्टर न दवाएं, मरीजों की कतार

जिला अस्पताल में डॉक्टर न दवाएं, मरीजों की कतार

1 / 2मलेरिया और बुखार से पीड़ित 42 मरीज इमरजेंसी में भर्ती कराए गए

जिला अस्पताल में डॉक्टर न दवाएं, मरीजों की कतार

2 / 2मलेरिया और बुखार से पीड़ित 42 मरीज इमरजेंसी में भर्ती कराए गए

PreviousNext

जिले में संक्रामक रोगों का कहर थम नहीं रहा है। मंगलवार को बुखार की चपेट में आई एक महिला की जिला अस्पताल में मौत हो गई है। जबकि 42 मरीजों को बुखार और मलेरिया से पीड़ित होने पर भर्ती कराया गया है। डीआईओएस कार्यालय के पांच लिपिक बुखार, मलेरिया की चपेट में आकर छुट्टी पर चले गए हैं। एक लिपिक की प्लेटलेट्स कम हो रही है, जिससे विभाग में हड़कंप मच गया है।

जिले में संक्रामक रोगों की दहशत बढ़ती जा रही है। जिला अस्पताल में हर रोज सैकड़ों संक्रामक रोगी पहुंच रहे हैं। मंगलवार को 942 मरीजों में से 403 मरीज बुखार और मलेरिया की चपेट में आकर उपचार के लिए पहुंचे। इनमें से 42 को इमरजेंसी में भर्ती कराया गया। जिला अस्पताल में चिकित्सकों का अभाव अस्पताल प्रशासन के लिए समस्याएं पैदा कर रहा है। वहीं दवाओं की भी कमी से चिकित्सक बेहतर उपचार देने में असमर्थता जताते हैं। हालांकि अस्पताल प्रशासन इस बात का दावा करता है कि अस्पताल आने वाले मरीजों को बेहतर उपचार दिया जा रहा है, लेकिन यथार्थ के धरातल पर देखे तो अस्पताल में कई दवाओं का लंबे समय से टोटा चल रहा है। किशनी के गांव गोपालपुर निवासी कौशल कुमार की पत्नी सुनीता देवी बुखार से पीड़ित थी। उन्हें मंगलवार को अस्पताल लाया गया,जहां उनकी मौत हो गई।

जीजीआईसी में लगाया गया स्वास्थ्य शिविर

मैनपुरी। आयुष आपके द्वार कार्यक्रम के तहत राजकीय होम्योपैथिक चिकित्सालय पुसैना के तत्वावधान में निशुल्क स्वास्थ्य परीक्षण शिविर लगाया गया। मंगलवार को देवी रोड स्थित जीजीआईसी में आयोजित शिविर में बीमारियों से बचाव के लिए 855 छात्राओं एवं स्टाफ को इंफ्लूएंज्म एवं अन्य दवाएं पिलाई गई। जिला होम्योपैथिक चिकित्साधिकारी डॉ. मार्कंडेय सिंह और चिकित्साधिकारी डॉ. स्वाती जैन ने रोगियों का परीक्षण कर उपचार दिया। लोगों को बारिश में होने वाले रोगों से बचाव के बारे में विस्तार से जानकारी दी। इस मौके पर प्रधानाचार्या सुमन यादव, फार्मासिस्ट अशोक शुक्ला, अरुणोदय कुमार, वार्ड बॉय अनिल कुमार, प्रवेश कुमार आदि का सराहनीय योगदान रहा।

स्वास्थ्य विभाग जागा, बृजपुर पहुंची टीम

मैनपुरी। हिन्दुस्तान में खबर छपने के बाद स्वास्थ्य विभाग जाग गया है। बिछवां क्षेत्र के ग्राम बृजपुर में डेंगू का मरीज मिलने के बाद स्वास्थ्य महकमे की टीम गांव में पहुंची। टीम ने चार दर्जन से अधिक मलेरिया और बुखार पीड़ितों को उपचार दिया जबकि दो दर्जन मरीजों के रक्त की जांच की है। ग्रामीणों को डायरिया, मलेरिया और बुखार से बचने के उपाय भी बताए गए।

डीआईओएस कार्यालय के पांच बाबू बीमार

जिले में संक्रामक रोगों का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि डीआईओएस कार्यालय में कार्यरत पांच बाबू बुखार की चपेट में आ गए हैं। वरिष्ठ लिपिक जगदीश सिंह कई दिनों से बुखार की चपेट में हैं जबकि वरिष्ठ लिपिक भूपेंद्र सिंह चौहान बुखार की चपेट में आने से उनके प्लेटलेट्स लगातार गिर रहे हैं जबकि वरिष्ठ लिपिक शैलेंद्र दुबे, पंकज यादव, भगवानदास गुप्ता भी बीमार चल रहे हैं। आठ लिपिकों के इस कार्यालय में सिर्फ तीन वरिष्ठ लिपिक ऑफिस चला रहे हैं।

इंजेक्शन लगते ही करने लगा शरीर कंपन

जिले में संक्रामक रोगों के बढ़ने के बाद झोलाछापों की पौबारह हो गई है। झोलाछापों के यहां जबरदस्त मरीजों की भीड़ जुट रही है। राधारमन रोड स्थित तेजस हॉस्पिटल में बुखार से पीड़ित पहुंचे एक युवक को चिकित्सक द्वारा इंजेक्शन लगाते ही उसके हाथ-पैर काम करना बंद कर गए। परिजनों ने आनन-फानन में उसे जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया है। थाना दन्नाहार क्षेत्र के गांव सथनी निवासी शमशेर अली के पुत्र जाहिद को तेज बुखार आया तो वह तेजस हॉस्पिटल राधारमन रोड पर लेकर पहुंचे। परिजनों ने आरोप लगाया कि वे जाहिद को डॉ. राकेश कुमार ने तेज बुखार में इंजेक्शन लगा दिया। इंजेक्शन लगते ही उसके हाथ-पैरों में कंपन शुरू हो गया। जाहिद खड़ा नहीं हो पा रहा था। उसका शरीर भी शिथिल पड़ने लगा। परिजनों के हाथ-पांव फूल गए। वे जाहिद को जिला चिकित्सालय की इमरजेंसी में लेकर पहुंचे। चिकित्सकों ने जाहिद की हालत चिंताजनक बताई है।

सीएचसी में नहीं मिल रहीं वायरल और मलेरिया की दवा

कुरावली। नगर तथा क्षेत्र में वायरल फीवर तथा मलेरिया का प्रकोप चल रहा है। प्रतिदिन सैकड़ों मरीज सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंच रहे हैं। नगर के सामुदायिक स्वास्थ्य कें द्र में प्रतिदिन 400 से अधिक मरीज वायरल व एक सैकड़ा से अधिक मरीज मलेरिया के इलाज के लिए पहुंच रहे हैं। स्वास्थ्य केंद्र में चिकित्साधीक्षक डॉ. मुनींद्र सिंह चौहान के अतिरिक्त मात्र एक चिकित्सक डॉ. आनंद किशोर द्वारा इन मरीजों का उपचार किया जा रहा है। वहीं अस्पताल में दवाएं न होने से मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। मरीजों द्वारा दवा न होने के कारण अस्पताल में हंगामा किया जा रहा है। नगर व क्षेत्रीय लोगों ने अस्पताल में दवा उपलब्ध कराने की मांग सीएमओ से की है।

बीमारी के प्रति छात्रों को किया जागरुक

टोडरपुर। जिले में गंभीर बीमारियों का दौर जारी है। मलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया आदि बीमारियों का कहर बढ़ने से लोगों में भय है। स्वतंत्रता सेनानी नाथूराम दीक्षित इंटर कालेज टोडरपुर में शिक्षकों द्वारा सभी को जागरूक किया गया। बीमारियों के लक्षण, बचाव तथा प्राथमिक उपचार की जानकारी दी गई और लोगों को हर संभव जगह को स्वच्छ रखने के लिए भी कहा गया । इस मौके पर संस्थापक जयप्रकाश दीक्षित, प्रधानाचार्य पंकज दीक्षित, जेपी पाठक, अनिल द्विवेदी, इंद्रेश अवस्थी, सुधीर त्रिपाठी ,राजेश द्विवेदी देवेंद्र शाक्य, अरविंद अवस्थी, स्वीकृति दीक्षित, जूली कुमारी ,सीमा शर्मा आदि मौजूद रहे।

जिला अस्पताल में मरीजों की संख्या में वृद्धि हुई है। बुखार और मलेरिया से पीड़ित मरीज आ रहे हैं। अस्पताल आने वाले मरीजों को बेहतर उपचार दिया जा रहा है।

डॉ. आरके सिंह, प्रभारी सीएमएस

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Doctor s medicines patients queue at district hospital