DA Image
29 नवंबर, 2020|9:58|IST

अगली स्टोरी

मैनपुरी में निशुल्क उपचार के लिए 780 के बने गोल्डन कार्ड

default image

रविवार को आयुष्मान भारत योजना के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में कैंप लगाकर गोल्डन कार्ड बनवाए गए। जनपद के सभी ब्लॉकों में छह-छह गांव चिह्नित किए गए जहां गोल्डन कार्ड सबसे कम बने थे। चिह्नित गांव में कैंप लगाकर 780 पात्रों के गोल्डन कार्ड बनाए गए। खास बात यह रही कि खराब प्रगति से जुड़े इन गांव में गोल्डन कार्ड बनाकर मैनपुरी जनपद ने प्रदेश में दूसरा स्थान हासिल कर लिया। सीडीओ ने कहा कि संबंधित अधिकारी, कर्मचारी मन लगाकर पात्रों के गोल्डन कार्ड बनाएं ताकि उन्हें इस योजना का लाभ आसानी से मिल सके।

सीडीओ ईशा प्रिया ने बताया कि आयुष्मान भारत योजना में 37 हजार से अधिक लोगों ने अब तक गोल्डन कार्ड नहीं बनवाए हैं। जनपद में 1.10 लाख से अधिक पात्रों को इस योजना में शामिल किया गया है लेकिन अब तक 83 हजार के ही कार्ड बन सके हैं। सरकार के निर्देश पर सर्वाधिक खराब प्रगति से जुड़े ग्रामीण क्षेत्रों में रविवार को लगाए गए कैंप में 780 के कार्ड बनाए गए हैं। उन्होंने जानकारी दी कि इस योजना में जिन लोगों के पास गोल्डन कार्ड हैं उन्हें जरूरत पड़ने पर चिह्नित अस्पताल में पांच लाख रुपये तक का निशुल्क उपचार मिलेगा। सरकार की इस योजना से कार्ड धारकों को बड़ा लाभ मिल रहा है। उन्होंने कहा कि जिन लोगों के पास गोल्डन कार्ड नहीं है वह कैंप में आकर कार्ड बनवा लें। जिन लोगों के पास कार्ड नहीं होगा उन्हें निशुल्क उपचार नहीं मिल सकेगा। सिकंदरपुर में लगे कैंप का सीएमओ डा. एके पांडेय ने निरीक्षण किया। योजना प्रभारी डा. सुशील पांडेय ने बताया कि कैंप आगे भी लगेंगे। जो पात्र हैं वह कार्ड आकर बनवा लें।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:780 made golden card for free treatment in mainpuri