DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

25 हजार के इनामी शराब माफिया को पुलिस को रिहा करना पड़ा

गुरुवार की शाम घेराबंदी कर पकड़े गए शराब माफिया नीलू यादव को पुलिस को छोड़ना पड़ा। तीन मुकदमों में फरार चल रहे नीलू की गिरफ्तारी न होने पर एसपी की ओर से 25 हजार रुपये का इनाम घोषित किया गया था। लेकिन माफिया ने इन मुकदमों में गिरफ्तारी से बचने के लिए हाईकोर्ट से गिरफ्तारी पर स्टे हासिल कर लिया था। गिरफ्तारी की खबर मिलते ही अधिवक्ता कोतवाली पहुंच गए और स्टे पुलिस को दिखाया। इसके बाद उसे रिहा कर दिया गया।

जनपद में शराब के अवैध कारोबार के लिए कुख्यात नीलू यादव को पुलिस ने पहले गिरफ्तार किया था और जेल भेज दिया था। लेकिन नीलू यादव जमानत पर जेल से बाहर आ गया। उसके खिलाफ जनपद के विभिन्न थानों में तीन अन्य मुकदमे भी दर्ज थे। इन मुकदमों में उसकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस कई महीनों से दबिश दे रही थी। गिरफ्तारी न होने पर एसपी अजय शंकर राय की ओर से गिरफ्तारी के लिए 25 हजार रुपये का इनाम घोषित कर दिया गया था। इनाम घोषित होने के बाद पूरे जनपद की पुलिस के अलावा स्वाट टीम को भी नीलू की गिरफ्तारी के लिए लगा दिया गया था। लेकिन फिर भी उसकी गिरफ्तारी नहीं हो पा रही थी।

कुरावली रोड से घेराबंदी कर पकड़ा गया

मैनपुरी। गुरुवार की शाम पुलिस को जानकारी मिली कि नीलू कुरावली की तरफ से मैनपुरी शहर में आ रहा है। मुखबिर से जानकारी मिलते ही स्वाट टीम ने घेराबंदी कर ली। नीलू की कार को कुरावली रोड पर घेर लिया गया। कार की तलाशी में नीलू भी मिल गया। स्वाट टीम उसे पकड़कर कोतवाली ले आयी। उसकी गिरफ्तारी की खबर मिलते ही अधिवक्ता हाईकोर्ट से दिए गए स्टे आर्डर को लेकर पहुंच गए। इसके बाद पुलिस ने स्टे आर्डर के आधार पर गिरफ्तार किए गए नीलू को छोड़ दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:25 thousand prized liquor mafia had to be released from the police