ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश महाराजगंजजिसके अपहरण की सूचना दे मांगा फिरौती, वह छात्र फार्मेसी कॉलेज में पढ़ता मिला

जिसके अपहरण की सूचना दे मांगा फिरौती, वह छात्र फार्मेसी कॉलेज में पढ़ता मिला

नौतनवा हिन्दुस्तान संवाद। नौतनवा कस्बे के सरोजनी नगर के रहने वाले एक परिवार को...

जिसके अपहरण की सूचना दे मांगा फिरौती, वह छात्र फार्मेसी कॉलेज में पढ़ता मिला
default image
हिन्दुस्तान टीम,महाराजगंजTue, 25 Jun 2024 01:30 AM
ऐप पर पढ़ें

नौतनवा हिन्दुस्तान संवाद।
नौतनवा कस्बे के सरोजनी नगर के रहने वाले एक परिवार को उसके बेटे के अपहरण का फोन आने के बाद पूरा परिवार सकते में आ गया। सोमवार की सुबह करीब 11 बजे फोन करने वाले ने कहा कि उसके मोबाइल पर जल्द से जल्द 20 हजार ट्रांसफर करो वरना बेटे वैभव को खो दोगे। डरी सहमी वैभव की मां अनुराधा पैसे के इंतजाम करने में लग गई। लेकिन कुछ लोगों ने पैसा ट्रांसफर करने से मना कर दिया। परिवार के लोग राजीव गांधी फार्मेसी कॉलेज पहुंचे जहां उनका बेटा पढ़ाई करते हुए मिला। तब जाकर परिवार के सदस्यों ने राहत की सांस ली। छात्र की मां की सूचना पर नौतनवा पुलिस जांच-पड़ताल में जुट गई।

छात्र की मां अनुराधा ने बताया कि सोमवार को घर के सभी लोग काम में व्यस्त थे। पूर्वाह्न 11 बजे मोबाइल पर कॉल आया। फोन करने वाले बोले कि हम सीबीआई से बोल रहे हैं। तुम्हारे बेटे को उठा लिया गया है। जिसमें बच्चे की आवाज भी सुनाई जाती है। बीस हजार तत्काल मोबाइल पर ट्रांसफर कर दो वरना बेटे को गंवा दोगे। बेटे के अपहरण की बात सुन अनुराधा सकते में आ गई। फोन पर वह पैसे के इंतजाम करने की बात करने लगी। फोन करने वाले ने बताया कि तुम्हारे बेटे को दिल्ली लेकर चले गए तो रकम बढ़ जाएगी।

घर के सभी सदस्य बेटे के अपहरण की सूचना पर सहम गए और पैसे भेजने के इंतजाम करने में जुट गए। मामला सामने आने पर कुछ लोगों ने कहा कि डीप फेक का दौर चल रहा है। आटिफिशियल इंटेलीजेंस के सहारे साइबर अपराधी आवाज का क्लोन तैयार कर सुना कर रकम की मांग कर रहे हैं। ऐसे में पता लगाना जरूरी है कि छात्र फार्मेसी कॉलेज में पढ़ने गया है कि नहीं। परिवार के लोग राजीव गांधी फार्मेसी कॉलेज पहुंचे।

वहां देखा कि वैभव अपनी क्लास में पढ़ाई कर रहा था। उसके बाद परिजनों के चेहरे पर सुकून आया। थानाध्यक्ष मनोज कुमार राय का कहना है कि साइबर फ्रॉड का मामला है। जलसाजों द्वारा एक नया तरीका अपनाया जा रहा है। मामले में शिकायती पत्र मिला है। जांच के लिए टीम लग गई है। साइबर ठगों से बचने की जरूरत है। किसी भी तरह के अंजान फोन पर संदेह होते ही पुलिस को अवश्य सूचित करें।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।