DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारतीय सीमा में अवैध नेपाली वाहनों के प्रवेश पर कसेंगे शिकंजा

भारतीय सीमा में अवैध नेपाली वाहनों के प्रवेश पर कसेंगे शिकंजा

सुरक्षा व्यवस्था को लेकर नौतनवा पुलिस अवैध नेपाली वाहनों का भारतीय सीमा क्षेत्र में प्रवेश पर शिकंजा कसने की तैयारी में है। इसके लिए उच्चाधिकारियों को पत्र प्रभावी कदम उठाने की मांग की गई है।

देश के अंतिम छोर पर बसे महराजगंज जनपद का सीमा नेपाल मुल्क के साथ सटा हुआ है। नेपाल को मैत्री देश का दर्जा मिलने के चलते सोनौली व ठूठीबारी बार्डर के अलावा अलावा अन्य नाकों से नेपाली नम्बर की गाड़ियां बिना किसी परमिट भारतीय क्षेत्र में आती जाती रहती हैं। नेपाली नम्बर के वाहनों से भारतीय सीमा में कई आपराधिक घटनाएं अंजाम पा चुकी हैं। सीमावर्ती थानों में कई नेपाली गाड़ियां सीज भी हैं। वहीं भारतीय वाहन बार्डर पार करते ही नेपाल के बेलहिया व महेशपुर में सुविधा व भंसार बनवाने के बाद ही आगे बढ़ पाती हैं। सुरक्षा व्यवस्था को लेकर भारतीय अधिकारियों ने उच्च अधिकारियों को लिखित पत्र भेजकर जरूरी कदम उठाने की मांग किया है। सब कुछ ठीक-ठाक रहा तो जिस तरह भारत से नेपाल जाने वाले वाहनों को सुविधा या तो भंसार करना पड़ता है। उसी तर्ज पर नेपाल से भारत आने वाले वाहनों को सुविधा या कस्टम कराना अनिवार्य हो जाएगा। अधिकारियों का मानना है कि इस तरह की कार्रवाई से नेपाल सीमा क्षेत्र में क्राइम पर अंकुश लगेगा। संदिग्ध गतिविधियों में संलिप्त पगडंडी रास्तों से आने जाने वाले वाहनों को रोकने का प्रयास कारगर होगा।

भंसार के बाद ही भारतीय वाहनों को नेपाल में मिलता है प्रवेश

भारत से नेपाल कार या बाइक से जाने के लिए नेपाल कस्टम पर बने काउंटर से भैरहवा नेपाल तक जाने के लिए सुविधा बनवाना पड़ता है। जबकि उससे आगे बुटवल, पोखरा, काठमांडू, मनोकामना जाने के लिए प्रतिदिन के हिसाब से बाइक का डेढ़ सौ और कार का पांच सौ नेपाली करेंसी देकर भारतीय भंसार बनवाते हैं। भारतीय वाहन चालक यदि गलती से भी नेपाल भंसार से रसीद कटाना भूल गए और वह नेपाल सीमा में चले गए और चेकिंग के दौरान पकड़े गए तो उनके वाहन सीज कर दिए जाते हैं। वाहन छोड़ने के लिए नेपाल प्रशासन वाहन की कीमत से दोगुना जुर्माना लगा देता है। जिससे भारतीय वाहन स्वामियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। भारी जुर्माना के चलते ज्यादातर वाहन स्वामी वाहन छुड़ा भी नहीं पाते।

नेपाली वाहनों का परमिट अनिवार्य करने की मांग

सीमावर्ती भारतीय अधिकारी भी नेपाल से भारत आने वाले दोपहिया वाहन और चार पहिया वाहनों को आरटीओ विभाग से परमिशन मिलने के बाद ही भारतीय सीमा में प्रवेश को सुरक्षा के मद्देनजर बेहद जरूरी मान रहे हैं। अधिकारियों का मानना है ऐसा होने से भारतीय सीमा क्षेत्र पर हो रहे क्राइम पर भी लगाम लगाई जा सकती है। सुरक्षा व्यवस्था से जुड़े अफसर ने सोनौली में स्थित सीमा शुल्क के कार्यालय में परिवहन विभाग के एक अधिकारी को तैनात करने की मांग किया है। जिससे नेपाल से भारत आने वाले दो पहिया व चार पहिया वाहनों को भारतीय कानून के हिसाब से कागजी कार्रवाई के बाद भारतीय सीमा में प्रवेश होने की इजाजत दी जा सके।

कोट-

सोमवार को उच्चाधिकारियों को लिखित पत्र भेजकर मांग किया गया है कि सोनौली सीमा शुल्क कार्यालय पर एक आरटीओ विभाग के अधिकारी को तैनात किया जाए। जिससे नेपाल से भारत आने वाले वाहनों को भारतीय कानून के तहत भारतीय सीमा में प्रवेश कर सके।

राजू कुमार साव-सीओ नौतनवा

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Screws at entry of illegal nepali vehicles into the indian border