DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  महाराजगंज  ›  बाढ़ से घिरा लक्ष्मीपुर खुर्द पुलिस चौकी, बांस-बल्ली के सहारे खैरहवा दूबे में पहुंची स्वास्थ्य टीम
महाराजगंज

बाढ़ से घिरा लक्ष्मीपुर खुर्द पुलिस चौकी, बांस-बल्ली के सहारे खैरहवा दूबे में पहुंची स्वास्थ्य टीम

हिन्दुस्तान टीम,महाराजगंजPublished By: Newswrap
Thu, 17 Jun 2021 09:10 PM
बाढ़ से घिरा लक्ष्मीपुर खुर्द पुलिस चौकी, बांस-बल्ली के सहारे खैरहवा दूबे में पहुंची स्वास्थ्य टीम

महराजगंज। हिन्दुस्तान टीम

लगातार तीन दिन आसमान से हुई आफत की बारिश से जिले में जल जीवन बेहाल है। गुरुवार को बारिश थम गई, लेकिन हर तरफ वॉटर लॉगिन की समस्या गहरा गई है। ठूठीबारी कोतवाली की सरहदी पुलिस चौकी लक्ष्मीपुर खुर्द बाढ़ के पानी से घिर गया है। पुलिस कर्मियों को दूसरी जगह शरण लेना पड़ा है। खैरहवा दूबे में गुरुवार को मेडिकल कैम्प लगाने स्वास्थ्य विभाग की टीम बांस-बल्ली के सहारे गांव में पहुंची।

बाढ़ कंट्रोल रूम के मुताबिक गुरुवार को त्रिमुहानी घाट पर रोहिन का जलस्तर खतरे के तल से 83.11 मीटर पर बह रही थी। इसका खतरे का तल 82.44 मीटर है। बड़ी गंडक नदी का जलस्तर तेजी से कम हुआ है। बुधवार को बाल्मिकीनगर बैराज से 4 लाख 12 हजार क्यूसेक पानी गंडक नदी में डिस्चार्ज हुआ था। सुबह 11 बजे बड़ी गंडक नदी में 2 लाख 27 हजार क्यूसेक पानी का बहाव था। महाव नाला का बहाव सुबह खतरे के तल पांच फीट पर था। चंदन नदी का जल स्तर भी नीचे आ रहा है। गुरुवार की सुबह आठ बजे चंदन का गेज 101.25 मीटर था। सायं चार बजे पांच सेमी घट कर गेज 101.20 मीटर पर आ गया। प्यास नदी का भी जलस्तर कम हो रहा है। सुबह आठ बजे 102.00 मीटर पर गेज था। सायं चार बजे घट कर 101.56 मीटर पर आ गया। कंट्रोल रूम के मुताबिक सुबह आठ बजे से पीछे 24 घंटे में जिले में 50 एमएम बारिश रिकार्ड की गई।

पहाड़ों पर बारिश थमी, सीमावर्ती इलाकों में आफत बढ़ी

ठूठीबारी। नेपाल के पहाड़ों पर बारिश थमने से भारतीय क्षेत्र की चंदन व झरही नदी में पानी का बहाव स्थिर नजर आ रहा है। जिससे नदी के किनारे बसे गांवों के ग्रामीणों ने राहत की सांस ली है। लेकिन जल जमाव से परेशानियां थमने का नाम नहीं ले रही है। ठूठीबारी टोला आराजी बैरिया चारों तरफ से पानी से घिरा हुआ है। जिससे गांव टापू की तरह दिखाई दे रहा है। अधिकांश किसान धान की रोपाई कर चुके हैं। उन्हें फसल डूबने की चिंता सता रही है। सबकी निगाह चंदन नदी पर टिकी हुई है। चंदन नदी में जैसे ही पानी का जल स्तर कम होगा वैसे ही खेतों में जमा पानी उसमें गिर जाएगा। पालतू जानवरों को सबसे अधिक दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है।

रेलवे कॉलोनी जलमग्न, सांसत में कर्मचारी व परिजन

लक्ष्मीपुर। भारी बारिश से लक्ष्मीपुर रेलवे स्टेशन की कॉलोनी में चारों तरफ पानी भर गया है। इससे स्टेशन व रेल पथ पर काम करने वाले कर्मचारियों व उनके परिजनों को कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है। रेलवे आवासों में कर्मचारी पीडब्लूआई राजन भारती, ट्रैक मैन नुरूलहोदा, राजकुमार, शिवभूषण चौहान, हेमन्त कुमार सिंह, असरफ अली, राजेन्द्र वरुण, जगेश्वर चौहान निवास करते हैं। इन कर्मचारियों का कहना है कि जल निकासी का समुचित प्रबन्ध न होने के कारण रेलवे आवासों में पानी भर गया है। कालोनी में पानी भर जाने के कारण कर्मचारियों को पानी को पार करते हुए अपनी जिम्मेदारी को निभाना पड़ रहा है। कर्मचारियों ने कालोनी से पानी निकासी की मांग की है।

संबंधित खबरें