Human rights team returned after taking statement and measurement of road in Mahrajganj - महराजगंज में बयान और नापी के बाद कागजात लेकर लौटी मानवाधिकार की टीम DA Image
23 नवंबर, 2019|1:37|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महराजगंज में बयान और नापी के बाद कागजात लेकर लौटी मानवाधिकार की टीम

महराजगंज में नेशनल हाइवे के चौड़ीकरण में मुख्य चौराहे पर मकानों के ध्वस्त कराने में लगे मानवाधिकार उल्लंघन की जांच शुक्रवार को पूरी हो गई। सोमवार की शाम को ही जिले में आई दो सदस्यीय टीम शुक्रवार को बयान और नापी के बाद कागजात लेकर दिल्ली लौट गई। यह टीम मानवाधिकार आयोग की जल्दी अपनी रिपोर्ट सौंप देगी, जिसके बाद आगे की कार्रवाई होगी।

एनएच चौड़ीकरण में सड़क के दोनों ओर अतिक्रमण हटाने के लिए चिह्नांकन किया गया था। एनएच की ओर से प्रचार कराकर अतिक्रमण हटवाने की बात कही गई थी। इसके बाद सितंबर के पहले सप्ताह से जेसीबी व पोकलैन लगाकर अतिक्रमण ध्वस्त कराया गया। इसी दौरान मुख्य चौराहे के कुछ पक्के मकानों को ध्वस्त किया गया, जिनमें एक मकान आवास विकास के पूर्व उपाध्यक्ष सुशील टिबड़ेवाल का था। सुशील टिबड़ेवाल के बेटे मनोज टिबड़ेवाल ने इस मामले में मानवाधिकार उल्लंघन की शिकायत मानवाधिकार आयोग  में की थी।

मानवाधिकार आयोग से दो सदस्यीय टीम सोमवार की शाम महराजगंज पहुंची। मंगलवार को मौके पर नापी कराते हुए शिकायतकर्ता के परिवार सहित कुछ लोगों के बयान लिए। अगले दिन बुधवार को एडीएम सहित कइयों का बयान लिया गया। गुरुवार को दो इंस्पेक्टर, पांच एसआई, एनएच के चार अफसरों सहित अन्य का बयान हुआ। शाम को टीम ने फिर मौके पर नापी कराई। शुक्रवार को संबंधित कागजात को अपने कब्जे में लेकर टीम दिल्ली लौट गई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Human rights team returned after taking statement and measurement of road in Mahrajganj