ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश महाराजगंजगर्मी ने बढ़ा दिए डायरिया और हाइपर पाइरेक्सिया के मरीज, आईसीयू में भर्ती हुए 40 बच्चे

गर्मी ने बढ़ा दिए डायरिया और हाइपर पाइरेक्सिया के मरीज, आईसीयू में भर्ती हुए 40 बच्चे

महराजगंज, निज संवाददाता। तेज धूप के साथ उमस भरी गर्मी से बच्चे बहुत जल्द...

गर्मी ने बढ़ा दिए डायरिया और हाइपर पाइरेक्सिया के मरीज, आईसीयू में भर्ती हुए 40 बच्चे
हिन्दुस्तान टीम,महाराजगंजTue, 28 May 2024 08:30 AM
ऐप पर पढ़ें

महराजगंज, निज संवाददाता।
तेज धूप के साथ उमस भरी गर्मी से बच्चे बहुत जल्द डायरिया और हाइपर पाइरेक्सिया के चपेट में आ रहे हैं। सोमवार को उल्टी-दस्त व तेज बुखार से गंभीर 15 मासूमों को भर्ती कराना पड़ा। ऐसे में आईसीयू की संख्या बढ़ गई। कुल 31 बेड पर 40 पीड़ित बच्चे भर्ती हैं। इसमें 35 उल्टी-दस्त और तेज बुखार के मरीज शामिल हैं।

करीब 25 दिनों से तेज गर्मी के कारण बच्चों की प्रतिरोधक क्षमता प्रभावित हुई है। इससे बच्चे उल्टी-दस्त और हाइपर पाइरेक्सिया के चपेट में आ रहे हैं। सोमवार की दोपहर दो बजे तक जिला अस्पताल में 1165 पीड़ित इलाज के लिए पहुंचे थे। इसमें 498 डायरिया और बुखार के शामिल हैं। बीमारी से गंभीर 15 मासूमों को आईसीयू में भर्ती करना पड़ा। आईसीयू में भर्ती 40 मासूमों में 22 उल्टी-दस्त और 18 तेज बुखार के शामिल हैं।

इंसेफेलाइटिस जांच के लिए भेजा गया सैम्पल

तेज बुखार से पीड़ित मासूमों में इंसेफेलाइटिस के पीड़ित होने की आशंका अधिक है। डॉक्टर की सलाह पर स्टाफ नर्सों ने बुखार पीड़ितों का सैम्पल लैब को भेजा है।

ड्रिप व पीसीएम इंजेक्शन की खपत बढ़ी

जिला अस्पताल में डायरिया और बुखार पीड़ितों की संख्या में इजाफा होने से ड्रिप और पैरासिटॉमाल इंजेक्शन की खपत बढ़ गई है। उल्टी-दस्त से पीड़ित के बदन में पानी की कमी को पूरा करने के लिए ड्रिप पर रखा गया है। बुखार को कंट्रोल करने के लिए पीसीएम इंजेक्शन देने की सलाह दी गई है।

सात दिन इलाज के बाद बीमारी हो रही सामान्य

जिला अस्पताल के बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. आरपी राय ने बताया कि उल्टी-दस्त और तेज बुखार से पीड़ित मासूमों के स्वस्थ होने में कम से कम सात दिन लग रहे हैं। नियमित दवा नहीं लेने पर समस्या बढ़ सकती है।

डायरिया और हाइपर पाइरेक्सिया के मरीज बढ़े हैं। दवा स्टाक करने के साथ ही भर्ती मरीजों की देखभाल का निर्देश दिया गया है। इसकी मॉनिटरिंग की जा रही है।

डॉ.एपी भार्गव, सीएमएस

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।