DA Image
27 जनवरी, 2020|12:16|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बुद्ध सर्किट से नेपाल पहुंच रहा डॉलर व यूरो

बुद्ध सर्किट से नेपाल पहुंच रहा डॉलर व यूरो

सोनौली बॉर्डर पर मनी एक्सचेंज की सुविधा नहीं होने से बुद्ध सर्किट के विदेशी सैलानी अपने साथ लाए डॉलर व यूरो की करेंसी भारत से घुमाकर नेपाल में ले जाकर मुद्रा बदल रहे हैं। इससे देश में आने के बाद भी विदेशी मुद्रा का भंडारण नहीं हो पा रहा है। इससे आर्थिक क्षति हो रही है। साथ ही साथ बार्डर पर सैलानियों व कारोबारियों को भी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

इंडो-नेपाल के बुद्ध सर्किट का सोनौली अहम पड़ाव है। यहां से हर दिन हजारों की संख्या में विदेशी पर्यटन नेपाल में प्रवेश करते हैं। सोनौली बार्डर पर इमीग्रेशन व कस्टम का कार्यालय है, लेकिन मनी एक्सचेंज की सुविधा नहीं है। इस वजह से विदेशी सैलानी अपने साथ लाए यूरो व डालर को नेपाली मुद्रा में बदल नहीं पा रहे हैं। नेपाल में पहुंचने के बाद वहां के मनी एक्सचेंज में मुद्रा का विनियम कर रहे हैं। इससे बुद्ध सर्किट के जरिए नेपाल में विदेशी मुद्रा का भंडारण बढ़ रहा है। सीमा पर देश को आर्थिक नुकसान हो रहा है।

भारतीय कारोबारी भी नेपाल में मुद्रा बदलने को मजबूर

सोनौली में मनी एक्सचेंज की सुविधा नहीं होने से भारतीय व्यापारियों को नेपाल जाकर मनी एक्सचेंज करना पड़ रहा है। सीमा के दोनों तरफ तैनात सुरक्षा कर्मियों की जांच और नोटों का पूरा ब्योरा नहीं रखने पर व्यापारियों को जांच-पड़ताल से गुजरना पड़ रहा है। सीमावर्ती भारतीय बाजार में विदेशी पर्यटक यूरो, डालर आदि देकर समान खरीदना चाहते हैं लेकिन मनी एक्सचेंज ना होने से यहां के व्यापारी इन विदेशी मुद्रा को नहीं लेते। इससे विदेशी नागरिक नेपाल जा कर यूरो, डालर दे कर मनी एक्सचेंज कर रहे हैं। वही नेपाल सीमा पर बेलहिया मे दर्जनों मनी एक्सचेंज काउंटर हैं, जहां पर किसी भी देश के नोट को चेंज करने की सुविधा उपलब्ध है।

क्या है मनी एक्सचेंज काउंटर

सरकार बैंकों में एक अलग से काउंटर खोलती है, जहां विदेशी मुद्रा एक्सचेंज किया जा सके। इसके अलावा बैंक अपने अधीन किसी को मनी एक्सचेंज काउंटर खोलने का लाइसेंस देती है। पर सोनौली में इस सुविधा का अभाव है। मनी एक्सचेंज ना होने के कारण इन सभी देशों की विदेशी मुद्रा नेपाल चली जाती हैं।

सोनौली से 120 देश के यात्री जाते हैं नेपाल

उद्योग व्यापार मण्डल नौतनवा तहसील अध्यक्ष सुभाष जायसवाल ने बताया मनी एक्सचेंज खुल जाने से एक तरफ जहां यहां के लोगों को रोजगार मिलता। वहीं भारतीय व्यापारियों को परेशानी के सामना से मुक्ति मिल जाती। सरकार को भी नुकसान नहीं होता। व्यापार मण्डल अध्यक्ष सोनौली अजय सिंह ने बताया कि सोनौली के रास्ते करीब 120 देश के नागरिक नेपाल जाते हैं। भारत सरकार को किसी एक बैंक में मनी एक्सचेंज की सुविधा देनी चाहिए, ताकि पर्यटकों व व्यापारियों को सहूलियत मिल सके।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Dollar and Euro reaching Nepal from Buddha circuit