DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बीबीएयू संविदा शिक्षकों की नियुक्त में यूजीसी नियमों का हुआ उल्लघंन

लखनऊ। निज संवाददाताबाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर केन्द्रीय विश्वविद्यालय (बीबीएयू) में संविदा को आगे बढ़ाने में ही नहीं संविदा शिक्षकों की नियुक्त में भी काफी गड़बड़ियां हुई है। यूनिवर्सिटी इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एण्ड टेक्नोलॉजी में संविदा शिक्षकों को नियुक्त करते समय विश्वविद्यालय प्रशासन ने यूजीसी के नियमों को भी ताक पर रख दिया। नियमो के अनुसार संविदा शिक्षकों की नियुक्त एक एकेडमिक सेशन के लिए होनी चाहिए थी, पर ऐसा विश्वविद्यालय प्रशासन ने ऐसा नहीं किया है। साथ ही 10 फीसदी से अधिक की गई।बीबीएयू के यूनिवर्सिटी इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एण्ड टेक्नोलॉजी में शिक्षक की संविदा बढ़ाने के आरोप में निदेशक और उनके सहायक की सीबीआई की गिरफ्तारी के बाद भ्रष्टाचार की परत दर परत खुलती जा रही है। अभी तक प्राप्त तथ्यों के अनुसार इंस्टीट्यूट में शिक्षकों की संविदा बढ़ाने में ही नहीं शिक्षकों की संविदा पर नियुक्त में भी नियमों की अनदेखी की गई है। नियुक्ति के समय यूजीसी के नियमों और मानकों को भी ताक पर रख दिया गया। नियुक्त पत्र में मनमानी शर्ते रखी गई। यूजीसी के अनुसार किसी भी संविदा शिक्षक की नियुक्ति एक शैक्षिक सत्र से अधिक नहीं हो सकती है। अगर बहुत जरूरत है तो उनको दूसरे शैक्षिक सत्र के लिए कार्य के प्रदर्शन के आधार पर दोबारा नियुक्त किया जा सकता है,लेकिन बीबीएयू में ठीक इसके उल्टा हो रहा था। बीबीएयू शिक्षकों को एक सेमेस्टर के लिए ही नियुक्ति किया गया। फिर उनकी संविदा दूसरे सेमेस्टर के लिए बढ़ाई गई, जबकि यूजीसी संविदा को बढ़ाने की कहीं बात नहीं करता है। इंस्टीट्यूट के एक शिक्षक ने बताया कि बीबीएयू ने विज्ञापन जब निकाला था तो उसमें दो सेमेस्टर के लिए नियुक्त करने की बात कही गई थी, लेकिन जो नियुक्ति पत्र जारी किया गया। वह एक सेमेस्टर का है। साथ ही यूजीसी के अनुसार कोई भी शैक्षिक संस्थान अपने यहां के कुल स्थाई शिक्षक का 10 फीसदी से अधिक संविदा शिक्षक नियुक्त नहीं कर सकता है,लेकिन बीबीएयू ने इसका भी उल्लघंन किया। ---------------------------------------------------------------------------------नियमानुसार 18 संविदा शिक्षक ही हो सकते हैंयूजीसी के 10 फीसदी के नियम के अनुसार बीबीएयू में मात्र 18 संविदा शिक्षक ही नियुक्त किए जा सकते हैं, पर यहां पर तो केवल यूनिवर्सिटी इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एण्ड टेक्नोलॉजी 36 संविदा शिक्षकों की नियुक्त कर दी गई है। विश्वविद्यालय में कुल स्थाई शिक्षकों की संख्या 176 है। इसके अनुसार विवि में लगभग 18 संविदा शिक्षकों की नियुक्त हो सकती थी। अगर पूरे विश्वविद्यालय में नियुक्त संविदा और गेस्ट शिक्षकों को मिलाया जाए तो यह संख्या कई फीसदी अधिक होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Violation of UGC rules in appointing BBAU contract teachers