अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गोरखपुर मतगणना में मीडिया को खदेड़ने पर विपक्ष के नारेबाजी के बीच विधानसभा 20 तक स्थगित

प्रमुख संवाददाता / राज्य मुख्यालयबुधवार को विधानसभा की कार्यवाही पर गोरखपुर और फूलपुर के लोकसभा उपचुनावों के मतों की गिनती का असर दिखाई पड़ा। कार्रवाई शुरू होते ही सपा-बसपा और कांग्रेस ने एकजुट होकर गोरखपुर में मीडिया को मतगणना स्थल से हटाए जाने के मामले को उठाते हुए वेल में आकर नारेबाजी शुरू कर दी। होहल्ले के बीच विधानसभा 20 मार्च तक के लिए स्थगित कर दी गई।बुधवार को विधानसभा की कार्यवाही कांग्रेस के अजय कुमार लल्लू के आलू नीति के सवाल पर शुरू हुई। इस पर बसपा के उमा शंकर सिंह तथा मो.असलम सदस्यों के सवालों के जवाब मंत्री दारा सिंह चौहान दे ही रहे थे कि नेता विरोधी दल राम गोविन्द चौधरी ने गोरखपुर में उपचुनाव की मतगणना के दौरान मीडियों को पुलिस द्वारा खदेड़ने का मामला उठा दिया। इसके विरोध में सपा, बसपा, कांग्रेस और रालोद के सदस्य वेल में आकर नारेबाजी करने लगे। होहल्ला इतना बढ़ा कि विधानसभा अध्यक्ष को 11.30 बजे से लेकर दोपहर 12 बजकर 20 मिनट तक कार्रवाई स्थगित करनी पड़ी। इसी बीच करीब 15 मिनट तक विधायी कार्य निपटाए गए। उसके बाद विधानसभा 20 मार्च तक के लिए स्थगित कर दी गई। समूचा विपक्ष गोरखपुर जिला प्रशासन की मीडिया के खिलाफ कार्रवाई के विरोध में धरने पर बैठ गया। करीब एक घंटे तक अपना विरोध करने के बाद ही विपक्षी सदस्य विधानसभा से बाहर निकले। विपक्ष की नारेबाजी के बीच विधानसभा में संजय गांधी स्नाकोत्तर आयुर्विज्ञान संस्थान के अधिनियम 1983 के तहत विधानसभा के दो सदस्यों को संस्थान के सदस्य के रूप में निर्वाचन करने का अधिकार विधानसभा अध्यक्ष को दिया गया। इसी तरह उत्तर प्रदेश विधानसभा की लोक लेखा समिति, अनुसूचित जातियों, जनजातियों और विमुक्त जातियों के लिए समिति, सार्वजनिक उपक्रम एवं निगम संयुक्त समिति, स्थानीय निकायों के लेखा परीक्षा प्रतिवेदनों की जांच के लिए समिति, पंचायती राज समिति और मंत्रियों को परामर्श देने वाली 30 स्थाई समितियों में सदस्यता के लिए विधानसभा अध्यक्ष को नाम निर्देशन करने का प्रस्ताव पारित कर दिया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Vidhan sabha