DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गलत खबरों के खंडन के लिए पुलिस ने लांच किया ट्विटर हैंडिल

सोशल मीडिया पर पुलिस से संबंधित गलत, भ्रामक व झूठी सूचनाओं को रोकने के लिए डीजीपी मुख्यालय ने ट्विटर हैंडिल लांच किया है।

डीजीपी के जन संपर्क अधिकारी राहुल श्रीवास्तव ने कहा कि अक्सर सही तथ्यों के अभाव में विभिन्न व्यक्तियों द्वारा सोशल मीडिया पर पुलिस से संबंधित खबरें व वीडियो पोस्ट कर दिए जाते हैं जो कम समय में वायरल हो जाते हैं। कई मामलों में जांच के बाद ऐसी खबरें पुरानी या अन्य राज्य या संस्थाओं की अथवा झूठी पाई जाती हैं। बुधवार को ही अंकित साहू नाम के एक व्यक्ति द्वारा अपने ट्विटर हैंडिल से झांसी पुलिस से संबंधित एक वीडियो पोस्ट किया गया, जिसमें वर्दी में एक पुलिसकर्मी को शराब के नशे में धुत होकर महिला से छेड़छाड़ करने, आम जनता द्वारा सबक सिखाए जाने एवं झांसी पुलिस द्वारा दोषी पुलिसकर्मी पर कार्रवाई के संबंध में ट्वीट किया गया था। जानकारी करने पर पता चला कि प्रकरण के संबंध में भोपाल (मध्य प्रदेश) में एक दिन पूर्व दैनिक समाचार पत्र में खबर प्रकाशित हो चुकी है। घटना का संबंध यूपी के झांसी जिले से न होकर मध्य प्रदेश से था। वीडियो में अंकित घटना के संबंध में मध्य प्रदेश पुलिस आवश्यक वैधानिक कार्रवाई कर चुकी है। घटना की सत्यता से ट्वीट करने वाले को भी अवगत कराया गया।

डीजीपी मुख्यालय का कहना है कि सोशल मीडिया पर भ्रामक खबरें कई बार अंतरराष्ट्रीय मीडिया में भी प्रकाशित हो जाती हैं। इस प्रकार की भ्रामक खबरों से यूपी पुलिस एवं यूपी की छवि देश में ही नहीं बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी धूमिल होती है। अब इस प्रकार की गलत व भ्रामक खबरों के खंडन एवं सत्यता को सोशल मीडिया के माध्यम से जन सामान्य तक पहुंचाने के उद्देश्य से पुलिस डीजीपी के आदेश पर पुलिस एक ट्विटर हैंडिल लांच किया जा रहा है, जिस पर सोशल मीडिया से प्राप्त यूपी पुलिस से संबंधित झूठी व भ्रामक खबरों को पोस्ट करने के साथ-साथ साक्ष्य के आधार पर उनका खण्डन कर सत्यता से अवगत कराया जाएगा। इस हैंडिल से जनता से भी यूपी पुलिस से संबंधित फर्जी खबरों को ट्वीट करने की अपील की जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:UP Police launched new twitter handle