DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उन्नाव गैंगरेप : सीबीआई ने विधायक के भाई समेत पांच के खिलाफ दाखिल की

यूपी : उन्नाव प्रकरण में सीबीआई ने पहली चार्जशीट दाखिल की

सीबीआई ने उन्नाव रेपकांड में दर्ज हुए मुकदमों में शनिवार को पहली चार्जशीट दाखिल की। यह चार्जशीट पीड़िता के पिता की हत्या के मामले में दर्ज मुकदमे की है। इसमें भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के भाई अतुल सिंह उर्फ जय दीप सिंह, करीबी महिला शशि प्रताप सिंह उर्फ सुमन, राम शरण सिंह उर्फ सोनू, विनीत मिश्र उर्फ विनय मिश्र और वीरेन्द्र सिंह उर्फ बउवा के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया गया है। एक आरोपी को क्लीन चिट भी दी गई है। सीबीआई ने कोर्ट में कहा है कि विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ अभी विवेचना जारी है। 
पीड़िता के पिता की मौत के मामले में दाखिल हुई चार्जशीट
सीबीआई ने पीड़िता, उसके चाचा व अन्य लोगों के कई बार बयान लिए। गिरफ्तार लोगों से आमना सामना कराया। इसके बाद ही सीबीआई ने अपनी चार्जशीट तैयार की। रेप पीड़िता के पिता को विधायक के भाई अतुल सिंह ने काफी पीटा था। बाद में उन्नाव पुलिस ने विधायक के दबाव में आकर टिंकू सिंह की तरफ से पीड़िता के पिता के खिलाफ ही मारपीट की रिपोर्ट दर्ज कर ली थी। पीड़िता के पिता को ही जेल भेज दिया था जहां उनका इलाज तक नहीं कराया गया। जेल में उनकी मौत हो गई थी। सीबीआई ने चार अप्रैल को इस संबंध में विनीत, बउवा, शैलू, सोनू और अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी।
विवेचना में कई नाम बढ़े 
सीबीआई ने बाद में इस मामले में विधायक की करीबी सुमन सिंह व अन्य को पूछताछ के लिए बुलाया था। इनके खिलाफ भी सुबूत मिलने पर सीबीआई ने उन्हें भी गिरफ्तार कर लिया था। शनिवार को सीबीआई ने कोर्ट में धारा 147,148,149,323,504,506 और 302 आईपीसी में दर्ज मुकदमे में चार्जशीट दाखिल की। जिनके खिलाफ चार्जशीट दाखिल हुई है, वह सब इस समय जेल में हैं। 
एक आरोपी को क्लीन चिट
सीबीआई ने इस मामले में एक आरोपी शैलेन्द्र सिंह को क्लीन चिट दी है। शैलेन्द्र के खिलाफ सीबीआई को कोई सुबूत नहीं मिले हैं। शैलेन्द्र इस मामले में आरोपी वीरेन्द्र सिंह उर्फ बउवा का भाई है। 
विधायक के खिलाफ विवेचना जारी
पीड़िता ने इस मामले में आरोप लगाया था कि पीड़िता के पिता को पीटा गया था, इसकी एफआईआर विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के दबाव में नहीं लिखी गई थी। उनके दबाव में ही उन्नाव की माखी थाने की पुलिस ने पिता को ही जेल भेज दिया था। अतुल सिंह सेंगर का कोई बाल बांका नहीं हुआ था। सीबीआई ने इस बिन्दु को भी प्रमुखता से लिया था और विधायक के खिलाफ साजिश का रचने का मुकदमा भी दर्ज किया था। सीबीआई का कहना है कि विधायक व अन्य आरोपियों के खिलाफ अभी विवेचना चल रही है। 
यह थी घटना
उन्नाव से भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर उन्नाव की एक किशोरी ने रेप का आरोप लगाया था। पीड़िता ने विधायक पर कार्रवाई न होने से नाराज होकर सीएम आवास पर आत्मदाह की कोशिश की थी। इसके दो दिन बाद ही विधायक के भाई की पिटाई से घायल पीड़िता के पिता की उन्नाव जेल में मौत हो गई थी। पिता की मौत के बाद इस मामले ने इस तरह से तूल पकड़ा था कि राजनीतिक गलियारों में भूचाल आ गया था। आनन फानन सरकार सख्त हुई थी और विधायक के भाई अतुल सिंह व उसके गुर्गे गिरफ्तार कर लिये गये थे। इस मामले में चारों ओर से घिरने के बाद सरकार को सीबीआई जांच की सिफारिश करनी पड़ी थी। सीबीआई ने 12 अप्रैल को इस मामले में अपने यहां मुकदमा दर्ज कर विधायक कुलदीप सिंह को गिरफ्तार कर लिया था। 
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:UP: In the Unnao Case the CBI filed the first charge sheet