DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

यूपी : बंद हुआ फतेहपुर कस्बा, तिरंगा लेकर सड़कों पर उतरे हर वर्ग के लोग

धर्म, मजहब ना सियासी रंग...उमड़े हुजूम में हर चेहरे पर गम और गुस्सा...हाथों में तिरंगा ...पाकिस्तान मुर्दाबाद के जोशीले नारे...क्या हिन्दू क्या मुसलमान, सभी का एक जैसा जज्बा... एक ही मांग ... शहीद जवानों का बदला चाहिए। 
पुलवामा में शहीद वीर जवानों के सम्मान में रविवार को आयोजित फतेहपुर बंद में सिर्फ राष्ट्रवाद का रंग दिखा।  

सड़कों पर ऐसी भीड़ उमड़ी कि इसका ओर- छोर दिखना मुश्किल था। वीर शहीदों  को श्रद्धांजलि देने के लिए सभी व्यापारिक संगठनों ने रविवार को फतेहपुर बंद का आह्वान किया था। इसके तहत नागरिकों ने दोपहर तक दुकानें बंद कर चौराहे पर श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया। सुबह पाकिस्तान का पुतला लेकर मुख्य मार्गों पर जुलूस निकाला गया।

जाति, धर्म, राजनीति को किनारे कर  जुलूस में ऐसी भीड़ उमड़ी कि सड़क पर तिल रखने को जगह नहीं बची।  समाज के हर वर्ग, हर तबके के लोगों के साथ हिंदू और मुसलमान कंधे से कंधा मिलाकर साथ चले। भीड़ में दुख और गुस्सा ऐसा कि जैसे आतंकी हमले में सभी ने अपने घर का लाल खोया हो।  नगर भ्रमण के बाद जुलूस बेलहरा चौराहे पहुंचा। जहां पाकिस्तानी झंडे में लिपटे पुतले को सड़क पर पीटकर उसे आग के हवाले कर दिया गया।

व्यापार मंडल अध्यक्ष रवींद्र वर्मा व विजय अग्रवाल महामंत्री प्रांशु जैन, मो वहीद, टीनू जैन, निजामुद्दीन, लाल बहादुर वर्मा, सर्वेश श्रीवास्तव, राजेश पाठक, मो बिलाल, समाजसेवी फहीम सिद्दीकी ,आदिल मुनीर,  अकीक सिद्दीकी समेत व्यापार मंडल के अनेक पदाधिकारी, सामाजिक संगठनों से जुड़े लोग व सैकड़ों  दुकानदार जुलूस में शामिल थे। श्रद्धांजलि सभा में सभी ने शहीदों के चित्र के सम्मुख पुष्प अर्पित किए। बाद में जुलूस तहसील पहुंचा, जहां पाकिस्तान के विरुद्ध जोरदार नारेबाजी के बीच नायब तहसीलदार को राष्ट्रपति के नाम संबोधित ज्ञापन सौंपा गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:UP: Fatehpur town closed people of every class descended on the street with the tricolor