class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सहकारी संस्थाओं में पारदर्शिता जरूरी

प्रमुख संवाददाता- राज्य मुख्यालय

सहकारी संस्थाओं में सुशासन के लिए सभी स्तरों पर निर्णयों में पारदर्शिता जरूर हो। सदस्यों, ग्राहकों व समुदाय के प्रति जवाबदेही की भावना से काम किया जाना चाहिए।

आयुक्त व निबंधक सहकारिता अजय चौहान ने 64वें अखिल भारतीय सहकारी सप्ताह पर सहकारिता भवन में आयोजित गोष्ठी में यह बाते कही। उन्होंने कहा कि आधुनिक तकनीक के प्रयोग से सहकारी संस्थाओं को और अधिक जनोपयोगी बनाने के साथ-साथ सहकारी संस्थाओं में सुशासन स्थापित करने व उनको व्यवसायिक रूप से अधिक दक्ष बनाने की जरूरत है।

प्रबंध निदेशक राज्य निर्माण सहकारी संघ धीरेंद्र सिंह ने कहा कि संस्था के सदस्य जागरूक हो, संस्था का प्रबन्धन व्यवसायिक दक्षता के साथ काम करे। इसके साथ प्रबन्धन व कार्मिकों के बीच आपसी सांमजस्य हो, सहकारी सिद्धांतों व मूल्यों का सही भावना से पालन किया जाए। अखिल भारतीय सहकारी सप्ताह 14 से 20 नवंबर तक चलेगा। इस मौके पर अपर आयुक्त व अपर निबन्धक एससी द्विवेदी, केपी सिंह तथा आलोक दीक्षित सहित उपायुक्त व उप निबन्धक सहकारिता एवं सहकारिता विभाग के अधिकारी, कर्मचारी उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Transparency in cooperatives is necessary
चारबाग समेत देश के 12 स्टेशन बनेंगे एयरपोर्ट की तर्ज परनिकाय चुनाव-प्रेक्षकों को आयुक्त ने बताए चुनाव डयूटी में उनके कार्यकलाप