ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश लखनऊआईपीएस की फोटो लगाने वाला व्यापारी गिरफ्तार

आईपीएस की फोटो लगाने वाला व्यापारी गिरफ्तार

आरोपी की फोटो है-सुधांशु जी को भेज दी है दूध कम्पनी की सीएण्डएफ चलाता है

आईपीएस की फोटो लगाने वाला व्यापारी गिरफ्तार
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,लखनऊFri, 22 Jul 2022 08:05 PM
ऐप पर पढ़ें

दूध कम्पनी की सीएण्डएफ चलाता है आरोपी

लखनऊ। संवाददाता

महाराष्ट्र कैडर के आईपीएस और लखनऊ के एसएसपी रह चुके यशस्वी यादव की फोटो लगा कर सोशल मीडिया अकाउंट बनाने वाले डेयरी कारोबारी राकेश त्रिपाठी (45) को महानगर पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपी ने आईपीएस की फोटो का इस्तेमाल इंस्टाग्राम, फेसबुक और ट्विटर पर आईडी बना रखी है। व्हाट्सएप अकाउंट की डीपी में भी आईपीएस की फोटो लगाई हुई है। राकेश के पास से एक मोबाइल फोन मिला है। जिसमें वह फर्जी सोशल मीडिया अकांउट इस्तेमाल करता था।

इंटरनेट से निकाली फोटो और बना डाली आईडी

एडीसीपी उत्तरी अनिल यादव ने बताया कि आईपीएस यशस्वी यादव की फोटो का दुरुपयोग किए जाने की जानकारी एक पत्र से मिली। सर्विलांस और साइबर सेल की मदद से आईडी इस्तेमाल करने वाले आईपी एड्रेस को ट्रैक किया गया। जिसके आधार पर न्यू हैदराबाद निवासी राकेश त्रिपाठी को दबोचा गया। पूछताछ किए जाने पर राकेश ने बताया कि यशस्वी यादव लखनऊ में एसएसपी के पद पर तैनात रह चुके हैं। इसलिए वह उन्हें पहचानता है। इंटरनेट सर्च करने के दौरान उसे आईपीएस की फोटो नजर आई थी। जिसे राकेश ने डाउनलोड कर लिया। इसके बाद आरोपी ने फोटो को एडिट कर आइपीएस की जगह अपना चेहरा लगा दिया। फिर फोटो लगा कर कई सोशल मीडिया अकाउंट बनाए। एडीसीपी ने बताया कि राकेश मदर डेयरी की सीएण्डएफ एजेंसी चलाता है।

प्रभावशाली दिखने के लिए बनाई आईडी

राकेश त्रिवेदी ने पुलिस को बताया कि गौतमपल्ली स्थित लामार्टिनियर कॉलेज से उसने इंटर तक की पढ़ाई की है। इसके बाद इंदौर से बीबीए करने के साथ एमिटी विवि से एमबीए की पढ़ाई की है। उसके साथी बड़े पदों पर कार्यरत हैं, लेकिन वह प्रतियोगी परीक्षा पास नहीं कर सका। इस बात का उसे मलाल था। राकेश के अनुसार उसने केवल रौब गांठने की नीयत से आईपीएस यशस्वी यादव की फोटो लगा कर आईडी बनाई थी। एडीसीपी उत्तरी के मुताबिक अभी तक की जांच में आईपीएस के नाम पर धोखाधड़ी किए जाने के सबूत नहीं मिले हैं। राकेश ने आईपीएस की फोटो का गलत तरीके से इस्तेमाल किया है।

epaper