अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गर्मी बीतने को है, हैण्डपम्प बने न सड़क

गर्मी बीतने को है। अब तक न तो नालियां बनी और खराब हैण्डपम्मों की मरम्मत हो सकी। नाले तक की सफाई नहीं हुई है। बारिश में भीषण जलभराव की समस्या से लोगों को जूझना पड़ेगा। यह दर्द गुरुवार को भाजपा पार्षदों के साथ हुए परिचय सम्मेलन में नगर आयुक्त व महापौर के सामने उभरा। पार्षदों ने आरोप लगया कि शहर में विकास कार्य पूरी तरह ठप हो चुका है।

गुरुवार को महापौर ने पार्षदों की नगर आयुक्त से परिचय कराने के लिए बैठक बुलाई थी। बैठक में शामिल पार्षदों ने कहा कि मौजूदा समय में विकास कार्य पर ब्रेक लग गया है। हैण्डपम्प के रिबोर तक का प्रस्ताव पर कोई फैसला नहीं लिया गया है। सड़कें टूटी पड़ी हुई हैं। लोगों को गड्ढायुक्त सड़कों पर चलने को मजबूर होना पड़ रहा है। पार्षद मनोज अवस्थी ने आरोप लगाया कि उनके वार्ड लालबहादुर शास्त्री द्वितीय में नालों की सफाई के बाद लगभीग 20 दिन से सिल्ट बाहर पड़ी है। पिछले दिनों हुई बारिश में ज्यादातर सिल्ट नालियों में पहुंच गई है। कई बार सिल्ट उठाने के लिए कहा गया लेकिन कोई सुन ही नहीं रहा है। कई नालियों की अब तक सफाई शुरू ही नहीं हो सकी है। आखिर बारिश का पानी कैसे निकल सकेगा। यह समस्या कई अन्य पार्षदों ने भी उठाई। नगर आयुक्त ने उनकी समास्या को नोट करके तत्काल सिल्ट उठवाने का निर्देश दिया। पार्षदों का कहना था कि गर्मी बीत गई लेकिन न तो हैण्डपम्मों की मरम्मत हुई और न ही सबमर्सिबल का रीबोर। लोगों को भीषण गर्मी में पानी के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है। सड़कों की मरम्म्त का काम भी शुरू नहीं हो सका है जबकि कार्यकारिणी सभी कामों की मंजूरी मिल चुकी है। प्रस्ताव की फाइल मुख्य अभियंता के कार्यालय में धूल फांक रही है। अब बारिश में काम हो भी नहीं सकेगा। लोगों को बड़ी मुसीबत का सामना करना पड़ेगा। नगर आयुक्त ने पार्षदों को आश्वस्त किया कि फाइलों को मंगाकर जल्द ही उनको मंजूरी दी जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:The heat is about to pass, the hand pump is not the road