अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पॉलिथीन बंदी का दिखा असर, अब दुकानदार खुद तैयार कर रहे हैं लिफाफे 

जिला प्रशासन के निर्देश पर क्षेत्र में पॉलिथीन बंदी के असर साफ दिखाई पड़ने लगे है। जुर्माने के डर से अब इलाके की छोटी बड़ी बाजारों के दुकानदार कागज खरीदकर स्वंय ही लिफाफा तैयार करते नजर आ रहे है।
 मनकापुर रेहरा मार्ग के अंधियारी बाजार में जलपान की दुकान चला रहे बैजनाथ गुप्ता, राधेश्याम मोदनवाल, सत्यनरायन गुप्ता, राकेश वर्मा, दिलीप मोदनवाल, रामगोपाल, मनोज शर्मा आदि के अनुसार दुकान की जरूरत भर का घर के बच्चे या महिलाओं द्वारा कागज के लिफाफे तैयार कर दिये जाते है। अब पालिथीन का प्रयोग बंद करके लिफाफे में ग्राहकों को खाने का समान दिया जा रहा है। वहीं दूसरी तरफ किराना स्टोर, रेडीमेड कपड़ा व्यापारी, सब्जी तथा फल विक्रेताओं द्वारा थर्माकोल सज निर्मित झोलों का प्रयोग कर रहे है।
पुराने कागजों की बढ़ी डिमांड: 
पालिथीन के चलते दौर में कागज के लिफाफे विलुप्त होते नजर आ रहे थे। परंतु सरकार के पालिथीन बंदी के कारण पुराने कागजों के भाव चढ़ने लगे है। क्षेत्रीय बजारों में भंगार पुराने समानों के खरीदारों में सफीउल्ला, तबारक अली, रमपति वर्मा, हरिराम आदि के मुताबिक रद्दी कागजों के भाव में पहले की अपेक्षा मांग बढ़ी है। पहले के भाव में प्रतिकिलो के हिसाब से तकरीबन पांच से छह रुपये तक का ईजाफा हुआ है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:The effect of polythene detainee now the shopkeepers are preparing themselves envelopes