DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जरूरतमंदों तक पहुंचाएं आयुष्मान भारत का लाभ : मुख्य सचिव

default image

मुख्य सचिव डा. अनूप चन्द्र पाण्डेय ने वरिष्ठ अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि आयुष्मान भारत-प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना का व्यापक प्रचार-प्रसार कर अधिक से अधिक योजना का लाभ पात्र हर गरीब एवं जरूरतमंदों तक पहुंचाया जाए। उन्होंने योजना के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए डीएम का उत्तरदायित्व तय करते हुए निर्देश दिए हैं कि चेकलिस्ट के अनुसार समीक्षा कर इसमें और अधिक गति लाने के लिए प्रयास करें।

मुख्य सचिव शुक्रवार को आयुष्मान भारत योजना को संचालित कर रही संस्था स्टेट एजेन्सी फार काम्प्रीहेन्सिव हेल्थ एंड इंटीग्रेटेड सर्विसेज (साचीज) की 9वीं बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। उन्होंने निर्देश दिए कि दावों और गोल्डन कार्ड की संख्या बढ़ाने के लिए व्यापक कार्ययोजना बनाई जाए। प्रदेश में स्थापित निजी क्षेत्र के बड़े अस्पतालों को योजना से जोड़ने के लिए उनके प्रबन्धकों से व्यक्तिगत स्तर पर संपर्क करते हुए उन्हें भी इस लोक कल्याणकारी योजना का सहभागी बनाने का प्रयास किए जाए। यह भी निर्देश दिए कि जिन लाभार्थियों को मुख्यमंत्री जन आरोग्य अभियान के तहत चिह्नित किया गया है, ऐसे परिवारों को भी आयुष्मान भारत योजना की भांति आरोग्य कार्ड (प्लास्टिक कार्ड) वितरित कर उन्हें योजना के प्रति जागरूक किया जाए। बैठक में प्रमुख सचिव, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य देवेश चतुर्वेदी ने बताया कि योजनान्तर्गत अब तक 39,94,993 लाभार्थियों की पहचान सुनिश्चित करते हुए उन्हें गोल्डन कार्ड दिये जा चुके हैं। प्रदेश में अब तक 1.54 लाख लाभार्थियों द्वारा निःशुल्क इलाज कराया जा चुका है। बैठक में मुख्य कार्यपालक अधिकारी, प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना श्रीमती संगीता सिंह ने बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा लगभग 8.45 लाख ऐसे परिवार भी चिह्नित किये गये, जिनका नाम एसईसीसी 2011 की पात्रता सूची में किन्हीं कारणों से छूट गया है और वह योजना के लाभों से वंचित हो गये। उन्हें राज्य सरकार द्वारा ‘मुख्यमंत्री जन आरोग्य अभियान के अन्तर्गत प्रदेश सरकार द्वारा अपने व्यय पर योजना से लाभान्वित कराया जा रहा है। टोल फ्री नंबर उन्होंने बताया कि राज्य सरकार द्वारा योजना के संचालन एवं अनुश्रवण के लिए डेडिकेटेड कॉल सेंटर टोल फ्री हेल्प लाइन नंबर 1800-1800-4444 की स्थापना की गयी है। जिसके माध्यम से लाभार्थियों का नियमित फीडबैक प्राप्त किया जा रहा है और संदिग्ध मामलों का भौतिक सत्यापन कराया जा रहा है। बैठक में राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण, भारत सरकार के प्रतिनिधि सहित सम्बन्धित विभागों के वरिष्ठ अधिकारीगण उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:The benefit of Ayushman Bharat should be extended to the needy Chief Secretary