अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अवैध डेरियों पर प्रति जानवर दस हजार जुर्माना

लखनऊ। प्रमुख संवाददाता

शहर में अवैध रूप से डेरियां संचालित करना मंहगा पड़ेगा। नगर निगम सदन ने इसके खिलाफ बड़ा फैसला लिया है। प्रति जानवर दस हजार रुपए जुर्माना के साथ हर दिन एक हजार रुपए खुराकी भी देनी होगी।

नगर निगम सदन में अवैध डेरियों पर नगर निगम द्वारा किए जा रहे भारी-भरकम जुर्माने पर विपक्ष ने सवाल उठाया था। विपक्षी पार्षदों ने कहा कि इतना ज्यादा जुर्माना व्यवहारिक नहीं है। इसे कम करके पांच हजार रुपए किया जाए। लेकिन सत्त पक्ष के पार्षदों ने इसका विरोध किया। उन्होंने जुर्माने के धनराशि सीधे 25 हजार रुपए करने का प्रस्ताव दिया। महापौर ने स्पष्ट किया कि शहर में संचालित डेरियों पर किसी प्रकार की नरमी नहीं बरती जाएगी। स्वच्छता के प्रयास में बाधक बने डेयरियों के खिलाफ भरकम जुर्माना होगा तभी उनका मनोबल टूट सकेगा। वह शहर से बाहर जाने के मजबूर होंगे।

दरअसल शहर में संचालित डेरियों से न सिर्फ गंदगी हो रही है बल्कि नालियां व सड़कें भी बर्बाद हो रही है। जहां भी डेरियां संचालित हैं वहां नालियां व सीवर लाइन चोक हो गई है। सड़कें टूट रही हैं। गंदगी से मच्छरों का आतंक है। लोगों का ऐसे इलाकों में रहना मुश्किल हो गया है। इनके खिलाफ तभी शिकायत होती है जब आसपास की जनता त्रस्त हो जाती है। विकसित योजनाओं की क्षतिपूर्ति के रूप में डेरी संचालकों से जुर्माना वसूल किया जा रहा है। यह क्षतिपूर्ति विकास कार्य पर खर्च हुई धनराशि का तीन से दस गुना तक है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Ten thousand fines per animal on illegal dairies