DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शिक्षक विद्यार्थियों में उद्यमिता और कौशल विकास करने का प्रयास करें

default image

वर्तमान तकनीकी युग में नवाचार करने और प्रौद्योगिकी उन्मुख होने की आवश्यकता है। शिक्षकों को विद्यार्थियों में उद्यमिता और कौशल विकास करने का प्रयास करना चाहिए, ताकि एक बार फिर हमारा देश विश्व गुरु बन सके। यह सुझाव बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर केन्द्र विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. संजय सिंह ने देश के 73वें स्वतंत्रता दिवस समारोह में दिया।

पर्यावरण विज्ञान विद्यापीठ के मैदान में ध्वजारोहण के पूर्व कुलपति प्रो. संजय सिंह को एनसीसी इकाई और गार्ड ने 'गार्ड ऑफ ऑनर' दिया। उन्होंने कहा कि आज का दिन हमारे लिए सौभाग्य का दिन है। इस दिन के लिए उन अनेकों वीर सपूतों को नमन। जिन्होंने हमें स्वतंत्रता दिलाई। उन्होंने डॉक्टर अंबेडकर को याद करते हुए कहा कि हमें बाबा साहेब से प्रेरणा लेनी चाहिए कि कैसे उन्होंने सीमित संसाधनों में रहकर भी उच्च शिक्षा प्राप्त की और समाज को आगे ले जाने की दिशा में काम किया। इस कार्यक्रम में बागवानी एवं सौन्दर्यीकरण अनुभाग की इंचार्ज दीपा हंसराज द्विवेदी, एनएसएस की डॉ. तरुणा, डॉ. रमेश चतुर्वेदी, एनएसएस प्रोग्राम ऑफिसर डॉ पवन चौरसिया, विश्वविद्यालय के प्रॉक्टर प्रोफेसर राम चंद्रा, रजिस्ट्रार डॉ. एस विक्टर बाबू, प्रो. डी. पी. सिंह सहित शिक्षक, कर्मचारी मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Teachers try to develop entrepreneurship and skill development in students