DA Image
Friday, December 3, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश लखनऊशिक्षक-कर्मचारी प्रदर्शन

शिक्षक-कर्मचारी प्रदर्शन

हिन्दुस्तान टीम,लखनऊNewswrap
Thu, 28 Oct 2021 08:00 PM
शिक्षक-कर्मचारी प्रदर्शन

मांगों को लेकर धरने पर कर्मचारी संगठन

लखनऊ। वरिष्ठ संवाददाता

प्रदेश भर के कर्मचारी व शिक्षकों ने पुरानी पेंशन की बहाली, सभी कार्मिक व शिक्षकों को चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने, शिक्षामित्रों, अनुदेशकों के स्थायीकरण, वेतन विसंगतियां दूर करने, सभी रिक्त पदों पर पदोन्नति करने जैसी 11 सूत्रीय मांगों को लेकर प्रदेश भर के जिला मुख्यालय पर कर्मचारी, शिक्षक, अधिकारी एवं पेंशनर्स अधिकार मंच उत्तर प्रदेश के आह्वान पर धरना दिया।

लखनऊ जनपद के कर्मचारी व शिक्षकों ने बड़ी संख्या में जनपदीय मंच के अध्यक्ष सुधांशु मोहन की अध्यक्षता में जिला अधिकारी आवास के सामने, पार्क लखनऊ में एकत्र होकर धरना दिया। मंच के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. दिनेश चंद शर्मा ने धरने को सम्बोधित करते हुए कहा कि अब तक कर्मचारी संगठनों की मांगों पर पूर्व की सरकारे समस्याओं का निराकरण करती थी, परंतु यह पहली सरकार है जो कर्मचारियों द्वारा अपने संघर्षों से अर्जित की गई उपलब्धियों को छीन रही है। प्रदेश के कर्मचारियों के महंगाई भत्ते का 10 हजार करोड़ का भुगतान सरकार ने रोका हुआ है। मंच के प्रधान महासचिव सुशील कुमार त्रिपाठी ने कहा कि प्रदेश के कार्मिकों के लिए कैशलेस चिकित्सा हेतु नियमावली बन जाने के बाद भी लागू नहीं की गई। विभागाध्यक्ष की संस्तुति के बाद ही कलेक्ट्रेट को विशिष्ट प्रतिष्ठा प्रदान करते हुए ग्रेड वेतन उच्चीकरण करने का शासनादेश जारी नहीं किया गया। कलेक्ट्रेट मिनिस्ट्रीयल संघ के महामंत्री अरविन्द कुमार ने बताया कि कलेक्ट्रेट कर्मचारियों की नायब तहसीलदार के पद पर पदोन्नति करने का निर्धारण नहीं किया गया। मंच के महासचिव राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के महामंत्री शिवबरन यादव ने कहा कि प्रदेश के मुख्य सचिव के बार-बार निर्देशों के बावजूद भी उन्हीं के अधिकारियों द्वारा सेवा संघ के पदाधिकारियों से वार्ताएं नहीं की जा रही हैं यही कारण कर्मचारियों की मांगे लंबित हैं और अब तक कर्मचारी शिक्षक अधिकारी एवं पेंशनर्स अपने अधिकारों के लिए विवश हुए हैं प्राथमिक शिक्षक संघ के महामंत्री संजय सिंह ने कहा कि वर्तमान सरकार कर्मचारी व शिक्षक विरोधी है, परंतु इस बार शिक्षक व कर्मचारी एकजुट होकर अपनी मांगों को मनवाने के लिए आंदोलन कर रहा है। धरने को डॉ. आरपी मिश्र, नरेंद्र वर्मा, अमिता त्रिपाठी, नरेंद्र सिंह, वीरेंद्र सिंह, फहीम बेग, सुभाष तिवारी, अविनाश श्रीवास्तव, आरके त्रिवेदी आदि ने भी संबोधित किया।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें