DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पहले टीबी को हराया, अब लोगों को बचा रहे

- टीबी पर विजय प्राप्त करने वाले लोगों को किया गया सम्मानित - टीबी के खात्मे के लिए लोगों को अब कर रहे हैं जागरुक - टीबी विजेताओं ने उत्तर प्रदेश में राज्य स्तरीय नेटवर्क की घोषणा की लखनऊ। निज संवाददाता जो लोग कभी टीबी से पीड़ित थे, अब वह लोगों को टीबी से बचने के लिए जागरुक कर रहे हैं। वह भी खूब जोश और हौसले से खुद को भरकर। ये वह लोग हैं, जिन्होंने टीबी को हराकर उस पर विजय प्राप्त कर ली है। अब टीबी के यही विजेता उत्तर प्रदेश में राज्य स्तरीय नेटवर्क स्थापित करने की घोषणा कर चुके हैं। राजधानी के हजरतगंज स्थित एक होटल में रीच संस्था द्वारा 12 जिलों से आए 31 टीबी पर विजय प्राप्त करने वालों को सम्मानित किया गया। पहली राज्य स्तरीय कार्यशाला राज्य टीबी सेल, यूएसएआईडी और रीच संस्था के संयुक्त तत्वावधान में राजधानी के एक होटल में प्रथम राज्य स्तरीय क्षमता निर्माण कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला में उत्तर विधान सभा के विधायक डॉ. नीरज बोरा ने टीबी विजेताओं और आरएनटीसीपी अधिकारियों की जुबानी टीबी से विजय प्राप्त करने की कहानी सुनी। सभी को सम्मानित किया। राज्य टीबी अधिकारी डॉ. संतोष गुप्ता ने बताया कि उत्तर प्रदेश में देश के करीब 18 फीसदी टीबी मरीज हैं। राज्य में टीबी को समाप्त करने के लिए सभी को एक साथ काम करने की जरूरत है। इस मौके पर रीच संस्था के वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारी डॉ. पंकज ढींगरा, मुक्ता शर्मा, लोपामुद्र आदि मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:tb