DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एससी एसटी एक्ट निरस्त करो, सवर्ण समाज का उत्पीड़न बंद करो

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद केन्द्र सरकार की ओर से लाए गए एससी एसटी एक्ट के विरोध में गुरुवार को किये गए भारत बंद का जिले में मिला जुला असर रहा। भिनगा और इकौना में जोरदार प्रदर्शन किया गया और एक्ट को समाप्त करने के लिए राष्ट्रपति को संबोधित ज्ञापन भेजा गया। जबकि कहीं दुकानें खुली रहीं तो कहीं पर बंद रही।
भिनगा के तहसील तिराहे से रैली निकाली गई। रैली ईदगाह तिराहे पर जनसभा के रूप में बदल गई। इस दौरान वेद प्रकाश मिश्र ने कहा कि केन्द्र सरकार ने सवर्ण समाज के लोगों के साथ अन्याय किया है। दिनेश शुक्ल ने कहा कि संविधान में सभी लोगों को बराबरी का अधिकार दिया गया है। लेकिन केन्द्र सरकार ने सवर्ण समाज से उनके जीने और अपनी बात रखने का अधिकार छीन लिया है।  विरोध प्रदर्शन के बाद लोगों ने राष्ट्रपति को संबोधित ज्ञापन एसडीएम भिनगा सीपू गिरी को सौंपा। इस मौके पर पुष्कर पाठक, अरविन्द्र तिवारी, ओम प्रकाश, देवदत्त तिवारी, प्रणव शुक्ल, प्रदीप सोनी, कृष्ण कुमार तिवारी, सुनील कुमार, नेवाजिश अली आदि शामिल रहे।
इसी तरह से गुरुवार को इकौना तहसील अधिवक्ता संघ के नेतृत्व में क्षेत्र के सवर्ण व पिछड़ा वर्ग के लोगों ने मार्ग पर जाम लगा कर नए एससी एसटी कानून पर अपना विरोध जताया। इस जाम से लगभग दो घंटे तक हाईवे पर सैकड़ों वाहन खड़े रहे। इस दौरान वरिष्ठ अधिवक्ता व संघ के बौद्धिक प्रकोष्ठ के जिला प्रमुख श्रवणकुमार द्विवेदी, अधिवक्ता संध के अध्यक्ष दिलीप शर्मा, महामन्त्री श्रीधर द्विवेदी, पूर्व अध्यक्ष ए.के. सिंह, भाजपा जिला उपाध्यक्ष व अधिवक्ता ओमप्रकाश द्विवेदी, रामकुमार शुक्ला, भाकियू के मंडल अध्यक्ष विनोद शुक्ला, हिन्दू युवा वाहिनी भारत के जिला अध्यक्ष कन्हैया कसौंधन आदि प्रमुख लोगों ने भारत सरकार के एससी एसटी के नए कानून को देश की 78 प्रतिशत जनता की विरोधी बताया। इस आन्दोलन में पिछड़ा वर्ग व मुस्लिम समाज के लोगों का पूरा समर्थन रहा। इस मौके पर अधिवक्ता उदयराज त्रिपाठी, संजय सिंह, भानुप्रताप यादव, प्रभाकर त्रिपाठी, सुधीर शुक्ला, राधेश्याम वर्मा, पंकज सैनी, हशमत हुसेन खां, प्रवीण यादव, मो. फगफूर खां आदि मौजूद रहे।वहीं बौद्धस्थली कटरा श्रावस्ती, वीरपुर व सेमगढ़ा में दुकानदारों ने स्वेच्छा से अपनी दुकान बन्द कर एससी एसटी के नए कानून का विरोध किया। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Suspend SC ST Act Stop Harassment of upper caste society