अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सितंबर तक आ सकता है रामजन्मभूमि मामले में सुप्रीमकोर्ट का फैसला: कोकजे

सितम्बर तक सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने की उम्मीद : कोकजे

बोले विहिप सुप्रीमो

जुलाई माह में कोर्ट खुलने के बाद शुरु होने वाली सुनवाई अधिकतम एक माह चलेगी

सभी पक्षों को रामजन्मभूमि विवाद पर कोर्ट के फैसले का करना चाहिए इंतजार

फोटो फाइल नंबर 14 एफजेडपीआईसी 1- कैप्शन- विहिप के अन्तरराष्ट्रीय अध्यक्ष जस्टिस सदाशिव विष्णु कोकजे

अयोध्या हिन्दुस्तान संवाद

विहिप के अन्तरराष्ट्रीय अध्यक्ष जस्टिस सदाशिव विष्णु कोकजे ने गुरुवार को यहां कहा कि सुप्रीम कोर्ट में लम्बित रामजन्मभूमि विवाद का फैसला सितम्बर वर्ष 2018 तक आ जाने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि जुलाई माह में कोर्ट खुलने के बाद शुरु होने वाली सुनवाई अधिकतम एक माह चलेगी। इसके बाद एक माह जजों को फैसला लिखने का समय मिलेगा।

जस्टिस कोकजे अयोध्या के कारसेवकपुरम में चल रहे विहिप के दस दिवसीय शिक्षा वर्ग के समापन समारोह के मुख्य अतिथि के रुप में शामिल होने यहां आए हैं। शिक्षा वर्ग का समापन शुक्रवार को होगा। इससे पहले गुरुवार को उन्होंने वर्ग में अलग- अलग चार प्रांतों अवध, काशी, गोरक्ष व कानपुर के पदाधिकारियों का परिचय प्राप्त किया। इस दौरान संवाददाताओं से बातचीत में श्री कोकजे ने कहा कि केन्द्र सरकार कोर्ट के फैसले में हस्तक्षेप कर सकती है, लेकिन पहले फैसला तो आ जाए। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के पूर्व केन्द्र सरकार ने संसद में कानून बनाने की कोशिश की तो इलाहाबाद हाइकोर्ट की ओर से 30 सितम्बर 2010 को दिया गया निर्णय भी क्वैश हो जाएगा और फिर उस कानून को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती भी मिल जाएगी।

एक अन्य सवाल के जवाब में श्री कोकजे ने कहा कि सात जनवरी वर्ष 1993 को तत्कालीन नरसिंहाराव सरकार की ओर से बनाए गये अयोध्या एक्ट को भी सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गयी थी। उन्होंने कहा कि कोर्ट ने एक्ट को कानून के रुप स्वीकार जरुर किया लेकिन अधिग्रहण को वैध मानते हुए निर्णय दिया कि मस्जिद इस्लाम का महत्वपूर्ण अंग नही है क्योंकि नमाज किसी भी सुविधापूर्ण स्थान पर अदा की जा सकती है। श्री कोकजे के अनुसार कोर्ट ने यह भी कहा कि विवादित परिसर से सम्बन्धित सभी मुकदमे चलते रहेंगे और इसका फैसला आने पर केन्द्र सरकार अधिग्रहीत भूमि के बारे में निर्णय ले सकेगी। उन्होंने कहा कि ऐसी स्थिति में सभी पक्षों को कोर्ट के फैसले का इंतजार करना चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Supreme Court decision in Ramjanmabhoomi case may come till September