DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सुलतानपुर : 15 केन्द्रों पर अब तक नहीं शुरू हो सकी गेहूं की खरीद

किसानों का गेहूं खरीदने के लिए प्रस्तावित सरकारी क्रय केन्द्रों में अभी तक केवल 33 क्रय केन्द्र क्रियाशील हो पाए है। जिनके माध्यम से खरीद शुरू कर दी गई है। खरीद शुरू होने के 18 दिन बीत जाने के बाद भी पीसीएफ के 15 क्रय केन्द्र क्रियाशील नहीं हो पाए है। जिससे किसानों को गेहूं बेचने में समस्या हो रही है। 

जिले में गेहूं खरीद का लक्ष्य 45 हजार एमटी निर्धारित किया गया है। लक्ष्य के अनुसार किसानों का गेहूं खरीदने के लिए विभिन्न क्रय एजेन्सियों की ओर से 48 क्रय केन्द्र खोले गए हैं। गेहूं खरीद चालू हुए 18 दिन बीत गया, लेकिन अभी तक कई क्रय केन्द्रों पर खरीद नहीं की जा रही है। पीसीएफ के 15 क्रय केन्द्र अभी तक क्रियाशील नहीं है। जिससे केवल 33 क्रय केन्द्रों पर खरीद शुरू हो पाई है। इन क्रय केन्द्रों पर अभी तक 149 किसानों से 686 एमटी गेहूं की खरीद की गई है। जबकि क्रय केन्द्रों पर गेहूं की आवक शुरू हो गई है। मौसम खराब देखकर किसान मशीन से कटाई-मड़ाई कराकर गेहूं बेचना फायदेमंद समझ रहा है। बाजार में गेहूं का दाम साढ़े 1600 रुपए प्रति कुन्तल होने के कारण किसान क्रय केन्द्रों पर गेहूं बेचना चाह रहे है। 

सरकारी क्रय केन्द्रों पर 1840 रुपए में खरीदा जा रहा गेहूं : सरकारी क्रय केन्द्रों पर गेहूं का मूल्य 1840 रुपए प्रति कुन्तल निर्धारित है। किसानों को क्रय केन्द्रों पर साफ कराई 20 रुपए नगद देना होगा। गेहूं तौल के बाद आनलाइन भुगतान के समय गेहूं के मूल्य के साथ किसान की ओर से दी गई धनराशि भी खाते में भेजी जाएगी। अर्थात किसानों को 1860 रुपए प्रति कुन्तल की दर से भुगतान किया जाएगा। जिला खाद्य विपणन अधिकारी विनीता मिश्रा ने बताया कि मौसम खराब होने से अभी गेहूं की आवक कम है। 33 क्रय केन्द्रों के माध्यम से अभी तक 696 एमटी खरीद की गई है। पीसीएफ के 15 क्रय केन्द्रों को  क्रियाशील करने का निर्देश दिया गया है। सभी क्रय केन्द्र प्रभारियों को किसानों का गेहूं खरीदने का निर्देश दिया गया है।   

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Sultanpur: Wheat procurement not yet started at 15 centers