DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सुलतानपुर : दो साल में घटा 36 लाख लीटर दूध उत्पादन

सरकार दुग्ध उत्पाद को बढ़ावा दे रही है। इसके बाद भी सरकार की सहकारी संस्था पराग दुग्ध उत्पाद संघ में ही दूध घटता जा रहा है। दो साल पहले पराग में साल भर में 54 लाख लीटर दूध का उत्पाद होता था, फैजाबाद दुग्धशाला में यूनिट मर्ज किए जाने के बाद वह घटकर 18 लाख लीटर हो गया है। 
लखनऊ-वाराणसी हाईवे पर अमहट में दुग्ध उत्पाद को बढ़ावा देने के लिए प्रदेश सरकार की ओर से पीसीडीएफ के तहत 20 हजार लीटर क्षमता के चिलिंग प्लांट पराग सहकारी दुग्ध उत्पाद संघ लि. की स्थापना की गई है।  सघन मिनी डेयरी को बढ़ावा देने के लिए जिले व अमेठी में 2000 लीटर क्षमता 10 चिलिंग प्लांट लगाए गए। जिससे प्रतिदिन जिले से पराग में 40 हजार लीटर दुग्ध का उत्पाद हो सके।  जिले और अमेठी को मिलाकर 816 समितियां तक भी गठित की गई थी। वर्ष 2013 में निष्क्रिय समितियों को बंद किए जाने के बाद 405 समितियां बची थी।  2016 में दुग्ध उत्पाद प्रतिदिन के हिसाब से 15 हजार ली. वार्षिक 54 लाख ली. था। अब महज 92 समितियां बची हैं ।
ऐसे घटा दूध उत्पादकता का प्रतिशत: पराग दुग्ध उत्पाद संघ में शुरुआती दौर में 816 समितियां बनी थी पर कई समितियों पर मानक के सापेक्ष दुग्ध उत्पाद नहीं हो रहा था। जिसके बाद 50 फीसदी समितियां बंद कर दी गई। 2015-16 में 400  समितियां  थी। तब जुलाई से मार्च तक दुग्ध उत्पाद प्रतिदिन तक 18000 लीटर हुआ करता था।अप्रैल से जून तक उत्पाद 10 व 11 हजार लीटर रहता था। वार्षिक औसत 15 हजार लीटर प्रतिदिन रहा। 2016-17 में समितियां टूटकर 110 हो गई। प्रतिदिन दूध उत्पाद छह हजार लीटर तथा वार्षिक 21.90 लाख ली. रहा। 2017-18  समितियों की संख्या 92 हो गई है । 
दुग्धशाला से सम्बद्धता से घटने लगा दूध: पराग में पीसीडीएफ के कर्मियों को वर्ष 2016 में अनिवार्य सेवानिवृति दे दी गई। जिससे कर्मियों की संख्या 70 फीसदी कम हो गई। उसी समय पराग दुग्ध उत्पाद संघ दुग्धशाला फैजाबाद में मर्ज कर दिया।  कर्मियों की कमी से समितियां घटकर चौथाई हो गई और समितियों के लोग प्राइवेट डेयरी से जुड़ गए।
 
फरवरी 2016 से रीजन फैजाबाद दुग्धशाला से जिले की यूनिट को मर्ज कर दिया गया। प्राइवेट डेरियों ने पराग के सापेक्ष 50 पैसे लीटर रेट बढ़ हमराह किया। समितियां बंद होने से दूध का उपार्जन भी घट गया है।
एसके घोष, प्रभारी सहकारी दुग्ध उत्पाद संघ  
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Sultanpur has reduced 36 lakh liters of milk production in two years