DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारी बारिश से उफनाने लगीं प्रदेश की नदियां

लगातार भारी बारिश के बाद प्रदेश की कमोबेश सभी प्रमुख नदियां उफान पर हैं। गंगा पश्चिम से लेकर पूरब तक ज्यादातर स्थानों पर तेजी से बढ़ रही है। यमुना भी लबालब होती जा रही है। प्रदेश के मध्य क्षेत्र में रामगंगा से लेकर गोमती, सई व शारदा तक के मिजाज गर्म हैं। ये नदियां तेजी से खतरे के निशान को छूने को उतावली हैं। वहीं पूर्वांचल में राप्ती, घाघरा, सरयू, रोहिनी व कुआनों जैसी नदियों का जलस्तर भी तेजी से बढ़ रहा है।

बढ़ाई गई बांधों की निगरानी

लगातार हो रही बरसात व आगे भी भारी बारिश की संभावना को देखते हुए सिंचाई विभाग ने बाढ़ सुरक्षा से जुड़े इंजीनियरों के लिए हाई अलर्ट जारी कर दिया है। बांधों की सुरक्षा के लिए 24 घंटे निगरानी भी बढ़ा दी गई है। सिंचाई विभाग के बाढ़ नियंत्रण कक्ष के अनुसार गंगा उत्तराखंड में हरिद्वार से लेकर बलिया तक उफान पर है। यह नदी बुलंदशहर में नरौरा के पास खतरे के निशान से ऊपर पहुंच गई है। हालांकि खतरे के निशान को पार करने के बाद यह स्थिर हो गई है लेकिन ‌फर्रुखाबाद, कन्नौज, कानपुर, रायबरेली, इलाहाबाद, वाराणसी, गाजीपुर व बलिया में तेजी से बढ़ रही है।

यमुना ने पार किया खतरे का निशान

पश्चिमी यूपी में यमुना तबाही मचाने को उतावली है। यह नदी भी मुजफ्फरनगर के मावी में तथा मथुरा में प्रयागघाट पर खतरे के निशान को पार कर गई है। वहीं आगरा, इटावा, औरैया, जालौन के कालपी तथा हमीरपुर में लगातार बढ़ रही है। हालांकि इलाहाबाद के नैनी में स्थिर बनी हुई है। वहीं रामगंगा मुरादाबाद व बरेली में बढ़ रही है, जबकि बिजनौर एवं शाहजहांपुर के डाबरी में स्थिर है।

पूर्वी यूपी में कटाव भी हुआ तेज

दूसरी तरफ नेपाल के साथ-साथ पूर्वी यूपी में हो रही झमाझम बरसात से पूर्वांचल की नदियां उफनाने के अलावा तेजी से कटाव भी कर रही हैं। राप्ती सिद्धार्थनगर एवं गोरखपुर में तेजी से बढ़ रही है, जबकि बहराइच, श्रावस्ती तथा बलरामपुर में स्थिर है। घाघरा बलिया में उफान पर है और फैजाबाद व बाराबंकी में यह खतरे के निशान से ऊपर बह रही है लेकिन बीती रात से यह स्थिर है। सरयू बबई नदी बस्ती में स्थिर है तो बूढ़ी राप्ती सिद्धार्थनगर में खतरे के निशान की ओर अग्रसर है। रोहिनी नदी महाराजगंज तथा गोरखपुर में तो छोटी गंडक कुशीनगर तथा देवरिया में तेजी से बढ़ रही है। कुआनो नदी गोण्डा एवं बस्ती बढ़ रही है तो संतकबीनगर में स्थिर है। शारदा नदी लखीमपुर खीरी में तेजी से बढ़ रही है और यह पलिया में खतरे के निशान से ऊपर पहुंच गई है। गोमती लखनऊ एवं सीतापुर में बढ़ रही है, वहीं जौनपुर में स्थिर बनी हुई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:stetes all prominent rivers are cross the denger label