class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सपा नेताओं ने राज्यपाल मिल कर बिजली दरें वापस कराने की मांग की

राज्य मुख्यालय। विशेष संवाददाता। समाजवादी पार्टी ने राज्यपाल से प्रदेश में बिजली की बढ़ी दरों को वापस कराने की मांग की है। पार्टी कार्यकर्ताओं ने इस मुद्दे पर सभी जिला मुख्यालयों पर धरना भी दिया। सपा प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल गुरुवार को राजभवन जाकर राज्यपाल से मिला और ज्ञापन दिया। प्रतिनिधिमण्डल में नेता विरोधी दल रामगोविन्द चौधरी, अहमद हसन, नेता प्रतिपक्ष विधान परिषद अहमद हसन व एमएलसी एसआरएस यादव, अरविन्द कुमार सिंह, तथा पूर्व मंत्री अरविन्द सिंह ‘गोप‘ शामिल थे। इन नेताओं ने राज्यपाल को बिजली की दरों में की गई बढ़ोतरी तत्काल वापस लिए जाने के लिए भाजपा सरकार को निर्देश देने का अनुरोध किया। ज्ञापन में कहा गया है कि निकाय चुनाव के दिनों में बिजली दरों में वृद्धि का प्रस्ताव छुपाकर ठीक चुनाव प्रक्रिया समाप्त होते ही बिजली दरों में भारी वृद्धि लागू करना भाजपा सरकार का जनविरोधी आचरण है। किसी भी तरह इस कार्यवाही को उचित नहीं माना जा सकता है क्योंकि इससे राजनीति में दोहरे चरित्र की मानसिकता और शासकीय स्वार्थपरता को बढ़ावा मिलेगा। ज्ञापन में कहा गया है कि भाजपा सरकार ने अपने जनकल्याण के तमाम वादों को दरकिनार कर बिजली उपभोक्ता दरों में 63 से 150 फीसदी और किसानों के लिए दरों में 50 फीसदी की वृद्धि कर दी हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में अनमीटर्ड कनेक्शन दरें बढ़ाने के साथ मीटर उपभोक्ता का फिक्स चार्ज भी बढ़ा दिया गया हैं। राज्यपाल महोदय को प्रदेश अध्यक्ष श्री नरेश उत्तम पटेल ने एक और ज्ञापन सौंपकर कहा कि प्रदेश के किसान, मजदूर, दुकानदार, पत्रकार, तथा राज्यकर्मी सभी रसाई गैस का इस्तेमाल करते हैं। इन वस्तुओं की बढ़ी हुई कीमतें तत्काल वापस होनी चाहिए। जिलों जिलों में दिया धरना लखनऊ सहित प्रदेश के सभी जिलों में लाखों की तादाद में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं एवं पदाधिकारियों ने जिलाधिकारियों के कार्यालयों पर शांतिपूर्ण धरना-प्रदर्शन किया और उन्हें ज्ञापन सौंपकर बिजली की दरों में वृद्धि को तत्काल वापस लिए जाने की मांग की।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:sp leaders meets governor
चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी महासंघ का चुनाव 19 जनवरी कोगंदगी का यह हाल, अब सुनवाई की आस