DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सीतापुर: दुधमुहे बच्चे की मौत, परिजनों में आक्रोश

शहर कोतवाली क्षेत्र के बड़ागांव भुर्जिहा में रविवार को एक दुधमुहे बच्चे की मौत हो गई। परिजनों ने टीकाकरण को मौत की वजह बताते हुए आक्रोश व्यक्त किया। स्वास्थ्य महकमे ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। सात बीमार बच्चों को प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे गई। सीएमओ का कहना है कि टीकाकरण के बाद बुखार आना स्वाभाविक है। 
बड़ा गांव भुर्जिहा में शनिवार को टीकाकरण अभियान के तहत जीरो से छह माह तक के बच्चों का टीकाकरण किया गया था। इसी में गांव निवासी लक्ष्मण के दो माह के बच्चे अर्पित को भी टीका लगा था। बकौल लक्ष्मण, टीकाकरण के बाद बच्चे की तबियत खराब हो गई। उसने रोना शुरू कर दिया। पूरी रात बच्चा सोया नहीं और रविवार भोर उसके मुंह से फेना निकलने लगा। ऐसे में डायल 100 पुलिस को फोन करके बच्चे को अस्पताल लाया गया। चिकित्सकों ने बच्चे को मृत घोषित कर दिया। लक्ष्मण के बच्चे की हालत देख अन्य अभिभावक भी परेशान हो गए। सात बच्चों के परिजन उन्हें लेकर सदर अस्पताल आ गए। यहां चिकित्सकों ने बच्चों का प्राथमिक उपचार किया और अभिभावकों टीकाकरण के बाद होने वाली परेशानियों को समझाते हुए घर भेज दिया। 
मुख्य चिकित्सा अधिकारी आरके नैय्यर का कहना है कि बच्चे की मौत टीकारण से नहीं हुई है। फिर भी परिवारीजनों के आरोप के चलते शव का पोस्टमार्टम कराया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हर एक अस्पताल पर हर बुधवार व शनिवार को टीकाकरण किया जाता है। टीके के बाद बच्चों को बुखार आना स्वाभाविक प्रक्रिया है। बड़ागांव भुर्जिहा से जिला अस्पताल लाए गए अन्य बच्चों को बुखार की ही शिकायत थी। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Sitapur: The death of the child anger among family members