DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सीतापुर में रिश्तवतखोरी का वीडियो वायरल, पांच सिपाही निलम्बित

कार्रवाई

पुलिस कार्यालय सहित क्षेत्राधिकारी सिधौली के सिपाही शामिल

कुल पांच सिपाहियों के विरुद्ध सिधौली कोतवाली में केस दर्ज

सीतापुर। हिन्दुस्तान संवाद

शस्त्र लाइसेंस की फाइल पर संस्तुति कराने के नाम पर रिश्वतखोरी हुई। पुलिस कार्यालय और सीओ सिधौली कार्यालय में पैसे के लेन देन का वीडियो बना। शनिवार रात वह वायरल हुआ। गंभीर प्रकरण को लेकर कुल पांच सिपाहियों पर कार्रवाई करते हुए इन पर सिधौली कोतवाली में सीओ सिधौली ने केस दर्ज कराया। एसपी का कहना है कि पांच सिपाहियों को तत्काल प्रभाव से निलम्बित कर दिया है। पूरे मामले की जांच सीओ बिसवां कर रहे हैं।

बताते हैं कि वीडियो फरवरी माह का है। सिधौली के रहने वाले भानु प्रताप को अपना शस्त्र लाइसेंस बनवाना था। पुलिस की विभागीय रिपोर्ट लगवानी थी। इसलिए एक-एक कर चार कार्यालयों में पैसे का लेन देन हुआ। सीओ सिधौली की पेशी में सिपाही योगेश चन्द्र उपाध्याय इसमें शामिल हुए। फिर अपर पुलिस अधीक्षक दक्षिणी कार्यालय में सिपाही संजय कुमार और हिमांशु गंगवार से लेन-देन हुआ। अगले आरोप में पुलिस कार्यालय की शाखा डीसीआरबी के पवन कुमार जुड़े। आईजीआरएस शाखा में सिपाही मनोज कुमार लेनदेन की जद में आए। शनिवार रात करीब साढ़े दस बजे वीडियो वायरल हुआ। मामला संज्ञान में आते ही एसपी एलआर कुमार ने कार्रवाई के आदेश दिए। मुकदमे में वादी बने सीओ सिधौली अंकित कुमार ने सभी पांचों सिपाहियों के विरुद्ध 7/13 भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत देर रात अभियोग पंजीकृत कराया। मामले की जांच सीओ बिसवां ने शुरू की है। सीओ बिसवां समर बहादुर सिंह का कहना है कि वीडियो में जो व्यक्ति शस्त्र लाइसेंस की जांच के नाम पर पैसा दे रहा है, उस भानु प्रताप की तलाश हो रही है। उधर पुलिस अधीक्षक एलआर कुमार ने बताया है कि सभी सिपाहियों को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया जा चुका है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:sitapur