ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश लखनऊशर्मनाक : निजी अस्पताल में बिल के लिए शव रोका,हंगामा

शर्मनाक : निजी अस्पताल में बिल के लिए शव रोका,हंगामा

ऑपरेशन के बाद मरीज की मौत, साढ़े तीन लाख का बिल थमाया इलाज में कोताही

शर्मनाक : निजी अस्पताल में बिल के लिए शव रोका,हंगामा
हिन्दुस्तान टीम,लखनऊThu, 08 Feb 2024 10:50 PM
ऐप पर पढ़ें

ऑपरेशन के बाद मरीज की मौत, साढ़े तीन लाख का बिल थमाया

इलाज में कोताही का आरोप लगाया, पुलिस ने शांत कराया मामला

लखनऊ। वरिष्ठ संवाददाता

बक्शी का तालाब स्थित निजी अस्पताल में इलाज के दौरान गुरुवार दोपहर मरीज की सांसें थम गई। आरोप हैं कि अस्पताल प्रशासन ने बकाया साढ़े तीन लाख रुपये बिल भुगतान के बिना शव देने से मनाकर दिया। इस पर नाराज परिवारीजनों ने हंगामा किया। इलाज में कोताही का आरोप लगाया। मौके पर पहुंची पुलिस ने किसी तरह समझाकर मामला शांत कराया।

बीकेटी निवासी इंद्रपाल सिंह की पत्नी शांति (45) को पेट में दर्द हुआ। गुजरे 23 जनवरी को शांति की तबीयत बिगड़ गई। परिवारीजन उन्हें लेकर स्थानीय निजी अस्पताल लेकर पहुंचे। यहां डॉक्टरों ने जांच की। जांच में आंत फटने की पुष्टि हुई। डॉक्टरों ने ऑपरेशन की सलाह दी। परिवारीजन ऑपरेशन को राजी हो गए। आरोप हैं ऑपरेशन के बाद मरीज की हालत बिगड़ गई। इलाज के बावजूद मरीज की तबीयत लगातार खराब होती चली गई। परिवारीजनों का आरोप है कि इलाज पर करीब साढ़े लाख रुपये का खर्च बताया। इससे पहले काफी पैसे वसूल लिए थे। इसके बावजूद मरीज को समुचित इलाज उपलब्ध नहीं कराया। गुरुवार को दोपहर में मरीज की मौत हो गई। मरीज की मृत्यु के बाद और बिल थमा दिया। बिना बकाया बिल भुगतान अस्पताल प्रशासन ने शव देने से इनकार कर दिया। नाराज परिवारीजनों ने हंगामा शुरू कर दिया। मौके पर पहुंची पुलिस ने परिवारीजनों ने समझाकर मामला शांत कराया। डिप्टी सीएमओ डॉ. एपी सिंह का कहना है कि बिल के लिए शव रोके जाने का मामला गंभीर है। मामले की जांच कराई जाएगी। जांच में आरोप सही मिले तो कठोर कार्रवाई की जाएगी।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें