अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अन्तरराष्ट्रीय मानक पर जांचे जाएंगे सुगंधित तेल

अमेरिका व स्विटजरलैण्ड ने मैथड व मानक उपलब्ध कराने का भरोसा दियाआईआईटीआर में सुगंध उद्योग व वैज्ञानिकों की बैठकलखनऊ। प्रमुख संवाददातासुगंधित तेलों को अंतरराष्ट्रीय मानक पर खरा उतारने की पहल शुरू हो गई है। आईआईटीआर व सीमैप न सिर्फ सुविधा मुहैया कराएगा बल्कि अमेरिका व आस्ट्रेलिया अन्तरराष्ट्रीय मानक पर गुणवत्ता जांचने का मैथड भी उपलब्ध कराएगा। इसका फायदा सीधे किसानों को होगा।यह सहमति गुरुवार को भारतीय विष विज्ञान अनुसंधान संस्थान (आईआईटीआर) में सुगंधि उद्योग को बढ़ावा देने के लिए आयोजित उद्योग-अकादमी बैठक ‘सीएसआईआर-इंडस्ट्री एक्शन प्लान फॉर सस्टेनेबल फ्यूचर में बनी। बैठक में अमेरिका, स्वीटजरलैण्ड के वैज्ञानिकों के साथ कई शोध संस्थान के वैज्ञानिक व उद्योग के प्रतिनिधि मौजूद थे। इंडिया फ्लेवर एंड फ्रेगरेंस इंडस्ट्री आउटलुक टु 2020 की रिपोर्ट के अनुसार पिछले पांच वर्षों के दौरान भारत के सुगंध के बाजार में लगातार वृद्धि हुई है लेकिन अंतरराष्ट्रीय मानक जांचने के मैथड की जानकारी न होने से किसानों को वाजिब दाम नहीं मिल पा रहा है। बैठक में मौजूद अमरीका के रिसर्च इंस्टीट्यूट फॉर फ्रेग्रेन्स मैटेरियल्स (आरआईएफएम) के अध्यक्ष डा. जेम्स सी रोमाइन व स्विट्जरलैंड के इंटरनेशनल फ्रेग्रेन्स एसोसिएशन (आईएफआरए) के अध्यक्ष मार्टिना बियांची ने सीएसआईआर को मानक व सुगंधित तेलों की गुणवत्ता मापने का मैथड मुहैया कराने का भरोसा दिया। साथ ही कहा कि उस मैथड पर गुणवत्ता मापने के बाद उसकी दोबारा जांच की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। आईआईटीआर के निदेशक प्रो. आलोक धवन ने कहा कि संस्थान में गुणवत्ता मापने की सुविधा उपलब्ध है। मैथड मिलने से अंतरराष्ट्रीय मानक के अनुरूप गुणवत्ता जांचना आसान हो जाएगा। उन्होंने ने कहा कि जो भी किसान अपना उत्पाद विदेश भेजना चाहेगा उसके उत्पाद की अंतरराष्ट्रीय मानक के अनुरूप जांच की जाएगी और संस्थान की ओर से प्रमाण पत्र मुहैया कराया जाएगा। इस मौके पर सीमैप के निदेशक डा. अनिल कुमार त्रिपाठी ने कहा कि शिक्षाविदों और उद्योग के बीच आपसी सहयोग संवाद के माध्यम ही संभव है। आईएफआरए और आरआईएफएम के अध्यक्ष माइकल कार्लोस ने सीमैप द्वारा परफ्यूम व आवश्यक तेलों के क्षेत्रों में किए गए कार्य व आईआईटीआर द्वारा एक मंच पर सभी को एक साथ लाने में किए गए प्रयासों की सराहना की। उन्होंने कहा कि इससे सुगंध उद्योग का विकास सुनिश्चित किया जा सकेगा। बैठक में अल्ट्रा इंटरनेशनल लिमिटेड के संस्थापक अध्यक्ष व प्रबंध निदेशक संत संगनेरिया, सुगंध व स्वाद विकास केंद्र, कन्नौज के निदेशक शक्ति विनय शुक्ला, भारतीय मानक ब्यूरो के डा. यूएसपी यादव, जॉनसन एंड जॉनसन के सलाहकार डा. विजय बाम्बुल सहित अन्य उद्योगों के प्रतिनिधि व शोध संस्थानों के वैज्ञानिक शामिल रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Scented oil will be tested on international standard