DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एसी एसी

राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के अघ्यक्ष डॉ रामशंकर कठेरिया ने बुधवार को अनुसूचित जाति के उत्पीड़न, हत्या, दुराचार समेत अन्य मुद्दों और योजनाओं में उनकी भागीदारी की समीक्षा की। इस दौरान कुछ मामलों में उन्होंने तारीफ की वहीं दुराचार पर नकेल, आर्थिक सहायता व शिक्षा लोन जैसी मामलों में कम प्रगति पर नाराजगी भी जाहिर की।

समीक्षा के दौरान उन्होंने दुराचार के मामलों में क्रास एफआरई दर्ज होने पर आपत्ति की। उन्होंने कहा कि रेप के मामले में क्रास एफआईआर उचित नहीं है। इससे गरीब व्यक्ति का केस कमजोर होता है। इस पर आईजी ने कहा कि ऐसे मामलों में पुलिस बहुत संवेदनशील रहती है। डॉ कठेरिया ने एससी वर्ग के व्यक्ति की हत्या और दुराचार के मामलों में पुलिस से इसकी विवेचन जल्द से जल्द किए जाने को कहा। उन्होंने कहा कि ऐसे मामलों में आरोपी की गिरफ्तारी की जाए। वहीं ऐसे मामलों में तय की गई आर्थिक सहायता को उसके परिजानों को समय से और 2016 में निर्धारित की गई नई दरों के हिसाब से ही दिया जाए। उन्होंने आशियान मर्डर केस के बारे में भी जानकारी ली।

जमीनों से हटाए जाएं अवैध कब्जे

राजस्व के मामलों की समीक्षा के दौरान आयोग के अध्यक्ष ने एससी वर्ग के लोगों की पट्टे व आवास की जमीनों पर भू-माफियाओं से कब्जा मुक्त कराई जाए। इस पर मंडलायुक्त अनिल गर्ग ने बताया कि एंटी भू माफिया अभियान के तहत कब्जेदारो को हटाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि गरीबों को न्याय मिलना चाहिए। डीएम और एसपी इसको सुनिश्चित करें।

शिक्षा ऋण कम मिलने पर नाराज हुए

एससी व एसटी वर्ग को बहुत कम शिक्षा लोन दिए जाने पर उन्होंने नाराजगी जताई। उन्होंने कहा मुद्रा योजना, स्टार्डअप, स्टैंडअप, छात्रावासों के बारे में भी जानकारी ली।

आर्थिक मदद देने में लखनऊ का काम अच्छा

आर्थिक सहायता प्रदान किए जाने के मामलो में उन्होंने लखनऊ के डीएम समेत अन्य अधिकारियों की सराहना की। वहीं कुछ अन्य जिलों में आर्थिक सहायता देने में हो रही देरी पर नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि एससी व एसटी के व्यक्ति की हत्या के मामले में डीएम व एसएसपी मौके पर जरुर जाएं। इससे गरीब परिवार को जल्द से जल्द न्याय मिलने में आश्वासन मिलता है। कानून पर उसका विश्वास बढ़ता है। आर्थिक सहायता के साथ ही एक्ट के तहत अन्य प्राविधानों और सुविधाओं को भी प्रदान किया जाए। इस बैठक में आयोग के उपाध्यक्ष एल मुरूगन, संयुक्त सचिव डा स्मिता चैधरी, जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा समेत मंडल के अन्य जिलों के जिलाधिकारी, एसएसपी, एसपी व अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:sc st act